स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

दिनभर चला रेस्क्यू, फिर भी Rajsamand Lake में डूबे युवक का नहीं लगा कोई सुराग

Laxman Singh Rathore

Publish: Jul 18, 2019 22:11 PM | Updated: Jul 18, 2019 22:11 PM

Rajsamand

आपदा प्रबंधन की व्यवस्था पर फिर उठे सवाल

लक्ष्मणसिंह राठौड़ @ राजसमंद

राजसमंद शहर के नौचोकी पाल के पास राजसमंद झील में डूबे युवक का दूसरे दिन गुरुवार को भी सुराग नहीं लग पाया। दिनभर गोताखोर तलाश करते रहे, मगर कोई सुराग नहीं लग पाया। ऑक्सीजन किट के अभाव में गोखातोर के लिए झील पेेंदे में जाकर ज्यादा वक्त तक रूकना मुश्किल रहता है। इसके चलते आपदा प्रबंधन की व्यवस्था पर फिर सवाल खड़े हो गए।

पुलिस के अनुसार जड़ी बुटी, दवा बेचने के लिए राजसमंद आए चालीस गांव, जलगांव (महाराष्ट्र) निवासी राजू (20) पुत्र टीकमसिंह उसके अन्य साथी के साथ झील पर पहुंचे। एक युवक पाल पर बैठा रहा, जबकि राजू नहाने के लिए सीढिय़ा उतरकर नीचे चला गया। दूसरे युवक को यह नहीं पता कि किस सीढिय़ों से नहाते वक्त पानी में गिरा। इसके चलते राजनगर पुलिस व गोताखोर सुबह से शाम तक नौचौकी की पूरी पाल के आस पास तलाश की, मगर कोई सुराग नहीं लग पाया। बुधवार शाम को अंधेरा ढलने के बाद रेस्क्यू बंद हुआ।

फिर खली ऑक्सीजन किट की कमी
झील, तालाब में डूबने वालों को बचाने के लिए तैराक व गोतोखार के लिए ऑक्सीजन किट की कमी फिर खली। बताया कि ऑक्सीजन किट करीब 2 लाख कीमत का है, मगर नगरपरिषद और प्रशासन कई हादसे होने के बाद भी नहीं खरीद सका। इसके चलते पुलिस, प्रशासन व नगरीय निकाय के साथ समूचे आपदा प्रबंधन व्यवस्था ही कठघरे में आ गई।