स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

यहां बारिश में टायर जलाकर करना पड़ता है अंतिम संस्कार

Laxman Singh Rathore

Publish: Aug 11, 2019 12:49 PM | Updated: Aug 11, 2019 12:49 PM

Rajsamand


Here funeral has to be done in the rain by burning tires

ग्राम पंचायत बामनटुकड़ा के करेड़ा गांव का मामला

प्रमोद भटनागर
केलवा. क्षेत्र की ग्राम पंचायत बामन टुकड़ा के करेड़ा गांव स्थित श्मशान में छप्पर नहीं होने से शनिवार को ग्रामीणों को टायर जलाकर मृतक का अंतिम संस्कार करना पड़ा।
करेड़ा के श्मशान घाट पर शवदाह के स्थान पर छप्पर नहीं होने से यहां बारिश के दिनों में अंतिम संस्कार करने में ग्रामीणों को खासी दिक्कत का सामना करना पड़ता है। ऐसे में लकड़ी से ज्यादा केरोसिन और कपड़ों व टायर का इंतजाम कर जैसे-तैसे अंतिम संस्कार किया जाता है। इसी तरह की स्थिति शनिवार को भी बन गई जब यहां राजपूत समुदाय में एक वृद्ध की मौत हो गई। परिजन, बस्ती के लोग शव को करेड़ा श्मशान घाट पर लाए, जहां बारिश से लकडिय़ां गीली हो चुकी थी। लकडिय़ों के आग नहीं पकडऩे की स्थिति में ग्रामीणों ने घी और कपड़ो से चिता को प्रज्जवलित करने का प्रयास किया। इसके तहत पांच-छह लोग बांस के सहारे जलते कपड़े चिता पर लटका खड़े रहे। इसके बाद भी लकडिय़ां आग नहीं पकड़ पा रही थी। जरा सी आग जलती और बारिश के चलते फिर बुझ जाती। ऐसे में आखिरकार ग्रामीणों ने टायर की व्यवस्था कर टायर जलाकर चिता को काफी मशक्कत से प्रज्जवलित करके अंतिम संस्कार किया। इसमें करीब चार घण्टे से भी ज्यादा का समय लग गया।

Here funeral has to be done in the rain by burning tires

ग्रामीण कई बार कर चुके शिकायत
श्मशान में टीन शेड नहीं होने से बारिश के दौरान होन वाली दिक्कत को लेकर ग्रामीण अब तक कई बार स्थानीय जनप्रतिनिधियों से शिकायत कर चुके हैं। लेकिन, हर बार वे सिर्फ आश्वासन ही देते हैं, लेकिन काम अब तक नहीं हो पाया है। ऐसे में गांव में बारिश के दौरान किसी की मौत हो जाने पर परिजन और रिश्तेदारों को पहले टायर आदि के जुगाड़ में लगना पड़ता है।
शीघ्र लगवाएंगे टीन शेड
कई बार प्रस्ताव लिया, लेकिन पंचायत में असहमति के कारण कार्य नहीं हो पा रहा है। फिर भी समस्या को देखते हुए शीघ्र ही टीन शेड लगवाया जाएगा।
मीरा देवी, सरपंच, ग्राम पंचायत बामनटुकड़ा