स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

खमनोर की गट्टूबाई 31 दिन रहीं सिर्फ गर्म जल पर निर्भर

Laxman Singh Rathore

Publish: Aug 12, 2019 11:59 AM | Updated: Aug 12, 2019 11:59 AM

Rajsamand

Gattubai 31 days dependent on hot water only

पूरे हुए उपवास तो अनुमोदना करने उमड़े समाजजन
श्रमण संघीय महामंत्री सौभाग्य मुनि ने भी की तपोमय जीवन की अनुमोदना

प्रमोद भटनागर
खमनोर. श्रमण संघीय महामंत्री सौभाग्य मुनि के चातुर्मास में 31 उपवास कर सबसे बड़ी तपस्या मासखमण पूर्ण करने वाली तपस्वी गट्टूबाई मांडोत का धूमधाम से वरघोड़ा निकाला गया। बाद में उनका पारणा कराया गया। जैन श्राविका ने 31 दिन तक अन्न और सभी प्रकार के ठोस और तरल आहार का त्याग कर सिर्फ गर्म जल ग्रहण कर तपस्या की।
मासखमण तपस्वी का वरघोड़ा गुरु अंबेश, सौभाग्य, मदन जैन स्थानक भवन से शुरू हुआ। बैंडबाजों के बीच मासखमण तपस्वी को रथ में सवारी करा वरघोड़ा निकाला गया। वरघोड़ा रक्ततलाई, पंचायत समिति रोड, बस स्टैंड, लोहारों की घाटी, तहसील रोड, बड़ा चौराहा, सदर बाजार होते हुए तपस्वी के निवास तक पहुुंचा। प्रवचन स्थली पर गुरु भगवंतों का आशीर्वाद लिया। सौभाग्य मुनि ने भी मासखमण की तपस्या पूर्ण होने पर तपोमय जीवन की अनुमोदना की और मांगलिक दी। श्रावक-श्राविकाओं ने भी तप की अनुमोदना की। मुनि ने तप की महत्ता बताते हुए कहा कि ईश्वर की दी हुई शक्ति को तप में लगाएं। तपस्वी गट्टू बाई का उनके निवास पर आयोजित कार्यक्रम में विधिविधान से पारणा कराया गया, जिसमें बड़ी संख्या में परिवार और समाजजन शामिल हुए।

Gattubai 31 days dependent on hot water only

आरोहण करने का साधन है सामयिक : साध्वी गुणमाला
आमेट. सामयिक आध्यात्मिक चेतना के जागरण का प्रयोग है। लाभ-अलाभ, सुख-दुख, जीवन-मरण, निंदा-प्रशंसा इन सब घटना चक्रों में सम रहना, अप्रंकप रहना साधना का सर्वोच्च शिखर है। इस शिखर पर आरोहण करने का साधन है सामयिक।
यह विचार शासनश्री साध्वी गुणमाला ने वृहद सामयिक कार्यक्रम में प्रस्तुत किए। तेरापंथ युवक परिषद द्व्रारा आयोजित कार्यक्रम में आमेट के श्रावक- श्राविकाओं ने उत्साह से भाग लिया। संचालन साध्वी प्रेक्षाध्यान ने किया। श्रावक निष्ठापत्र का वाचन मोतीलाल डांगी ने किया। ललित छाजेड़ ने बताया कि इस अवसर पर तेयुप के सदस्य अशोक गांधी, मुकेश चपलोत, सुदीप छाजेड़, भीकम खाब्या, पिन्टू लोढ़ा, संजय बोहरा, राजु पितलिया, पवन पामेचा, अनिल रांका, विनोद चोरडिया, कौशल मेहता उपस्थित थे।