स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

व्यापारी माने, अब मंडियां खुलेंगी, किसानों को होगा कैश भुगतान

Rajesh Kumar Vishwakarma

Publish: Sep 18, 2019 18:20 PM | Updated: Sep 18, 2019 18:20 PM

Rajgarh

-टीडीएस का फैसला वापस लिया, ई-अनुज्ञा में भी राहत
-भोपाल के किसान भवन में कृषि मंत्री ने ली बैठक में लिए गए निर्णय, व्यापारियों ने जताई सहमति
-कैशलेस ट्रांजेक्शन बढ़ाने केंद्र सरकार ने लगाया था दो प्रतिशत टीडीएस, व्यापारियों को दिक्कत आई तो वापस लिया फैसला

ब्यावरा. करीब 15 दिन से बंद जिलेभर की मंडियां बुधवार से खुल जाएंगी। शासन द्वारा तय कुछ बिंदुओं पर की जा रही व्यापारियों की मांगें मान ली गई हैं, जिस पर सभी व्यापारी मान गए। अब किसानों को कैश भुगतान आसानी से किया जा सकेगा।


दरअसल, एक दिन पहले केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा दो प्रतिशत टीडीएस लगाने का फैसला वापस लेने के बाद कैश को लेकर व्यापारियों की आपत्ति स्वत: ही खत्म हो गई है। अब न व्यापारियों को इससे दिक्कत रही न ही किसानों को। छोटे से लेकर बड़े भुगतान तक किसानों को आसानी से कैश भुगतान किया जा सकेगा। वहीं, मंगलवार को ही भोपाल के किसान भवन में हुई प्रदेशभर के व्यापारियों की बैठक में भी कई अहम मुददें पर चर्चा हुई।

 

कृषि मंत्री सचिन यादव ने सुनिश्चित किया है कि ई-अनुज्ञा लागू रहेगी लेकिन उसमें आ रही जटिलताओं को कम किया जाएगा। इसके लिए व्यापारियों ने भी सहमति जताई है। प्रदेशव्यापी बैठक में ब्यावरा मंडी से रमेश जैन, पचोर से महेश गोयल, कुरावर से सतीश अग्रवाल सहित जिलेभर से अन्य मंडी व्यापारी शिरकत करने पहुंचे थे। उल्लेखनीय है कि दो प्रतिशत टीडीएस के फेर में व्यापारियों ने पूरी तरह से भुगतान कैश करने से इनकार कर दिया था।

इसी कारण मंडी व्यापारी एसोसिएशन के तत्वावधान में लगभग प्रदेशभर की मंडियों में नीलामी कार्य बंद था। करोड़ों रुपए का मंडी टैक्स का नुकसान हो जाने के बाद शासन ने आखिर इतने दिन बाद इसे लागू किया।

 

कृषि मंत्री ने बैठक में ई-अनुज्ञा की ये दिक्कतें कम कीं
कृषि मंत्री यादव ने ई-अनुज्ञा के दौरान आ रही व्यापारियों की समस्याओं को बिंदुवार समझा और राहत प्रदान की है। इसमें व्यापारियों को सेम-डे गेट पास बनाने में दिक्कत आ रही थी। ऑनलाइन जानकारी सबमिट करने के साथ ही अन्य भुगतान प्रक्रिया में जटिलता हो रही थी। इसमें राहत देते हुए मंडी प्रशासन को सहयोग करने के निर्देश मंत्री ने दिए हैं।

 

 

इसके तहत सेम-डे (उसी दिन) गेट पास बन जाएगा ताकि व्यापारियों को दिक्कत न हो. इसके अलावा मंडी टैक्स चुकाने के लिए चेक भी स्वीकार कर लिया जाएगा जो कि अभी तक मान्य नहीं था। हालांकि यदि चेक बाउंस हुआ तो पांच गुना पैनाल्टी संबंधित व्यापारी को देना होगी। इसके अलावा माल रिजेक्ट होने पर अनुज्ञा कैंसल होने में आ रही दिक्कत भी खत्म की जाएगी।

वित्त मंत्री ने आदेश दिया, बैंकों में नहीं पहुंचा
कैश भुगतान को लेकर ब्यावरा मंडी में भी व्यापारियों की बैठक हुई, जिसमें बात सामने आई कि बैंकर्स मानने को तैयार नहीं है कि हमारे पास टीडीएस में राहत का कोई आदेश आया हो। इस पर शासन स्तर के वरिष्ठ अधिकारियों का कहना है कि बैंकर्स के पास जैसे ही सर्कुलर आएगा उसी आदार पर वे नियम लागू कर देंगे। केंद्रीय वित्त मंत्री ने यदि आश्वस्त किया है तो टीडीएस का कैंसल होना तय है। इसी बात को लेकर देर शाम तक असमंजस चलता रहा लेकिन भोपाल की बैठक के बाद तय हुआ कि तमाम मंडियां बुधवार से चालू हो जाएंगी।

 


काफी कुछ राहत दी है
भोपाल में हुई बैठक में काफी कुछ राहत किसानों के साथ ही व्यापारियों को दी है। इससे निश्चित ही ई-अनुज्ञा की मुश्किलें कम होंगी, व्यापारियों को मदद मिलेगी।
-रमेश जैन, वरिष्ठ गल्ला व्यापारी, मंडी, ब्यावरा


चालू कर दी जाएगी मंडी
मंडी में बुधवार से नीलामी कार्य शुरू कर दिया जाएगा। भोपाल में हुई बैठक और टीडीएस टैक्स की कटौती वापस लेने के बाद व्यापारी मान गए हैं। अब किसान उपज ला सकेंगे।
-एल. एन. दांगी, प्रभारी सचिव, कृषि उपज मंडी समिति, ब्यावरा