स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

परमीशन चाहिए तो लगवाएं सीसीटीवी, पार्किग बनवाएं

Kamal Singh Rajpoot

Publish: Sep 14, 2015 23:04 PM | Updated: Sep 14, 2015 23:04 PM

Rajgarh

प्रशासन ने शहर में बिना अनुमति संचालित कोचिंग क्लासेस पर शिकंजा कसना शुरू कर दिया है। कुछ दिन पहले सभी संचालकों को नोटिस दिया गया।

ब्यावरा। प्रशासन ने शहर में बिना अनुमति संचालित कोचिंग क्लासेस पर शिकंजा कसना शुरू कर दिया है। कुछ दिन पहले सभी संचालकों को नोटिस दिया गया। अब एक तय फॉर्मेट में कोचिंग पर सुविधाओं का फरमान भी स्थानी प्रशासन ने जारी किया है। दरअसल, हाल ही में नोटिस जारी होने के बाद कोचिंग संचालकों में हड़कंप मच गया।

सभी ताबड़तोड़ नगर पालिका के चक्कर काटने लगे और टैक्स जमा करने की मानो होड़ लग गई लेकिन सीएमओ इकरार अहमद ने अब कुछ बिंदुओं सीसीटीवी, पार्किग व्यवस्था, शौचालय व्यवस्था, पेयजल व्यवस्था, कमर्शियल जोन में किराए पर लिए गए भवन की अनुमति, श्रम विभाग का पंजीयन (गुमाश्ता सर्टिफिकेट) सहित अन्य प्रमुख बिंदुओं पर सुविधाओं का फॉर्मेट संचालकों से मांगा गया है, तभी उन्हें कोचिंग सेंटरों की परमिशन दी जाएगी।

...और शासकीय शिक्षकों की भी खैर नहीं
अपने परिजनों (पत्नी, भाई, बेटे या अन्य) के नाम से कोचिंग संचालित कर रहे सरकारी शिक्षकों पर भी अब शिक्षा विभाग शिकंजा कसेगा। सरकारी स्कूलों में तैनात होने के बावजूद घर में व्यवसाय के रूप में कोचिंग चला रहे सरकारी शिक्षकों के खिलाफ सख्त एक्शन लिया जाएगा। डीईओ ने बताया कि एसडीएम और स्थानीय प्रशासन की कार्रवाई में जो भी नाम सामने आएंगे या पढ़ाते हुए पाए जाएंगे, तो बतौर अपराध उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

मुझमें कार्रवाई की क्षमता नहीं
मैं कोशिश कर सकता हूं। किसी कोचिंग संस्थान पर रात आठ बजे जाकर छापा मारने की क्षमता मुझमें नहीं है। एसडीएम लेवल पर कार्रवाई की प्रक्रिया चल रही है। हां यदि कोई शिक्षक कोचिंग में पढ़ाते पाया गया तो सख्त कार्रवाई करेंगे, लेकिन मैं खुद चेक करने नहीं जाऊंगा। कोई मेरे समक्ष उन्हें पढ़ाते पेश कर दे तभी मैें कुछ कर पाऊंगा। -एसके मिश्रा, डीईओ, राजगढ़

अब खुद संचालकों को बुलाएंगे
तीन दिन की समयावधि दी गई थी, अब उन्हें खुद को उपस्थित होने को कहा जाएगा। मैं सीएमओ से बात करूंगी, पूरा फॉलोअप लेने के बाद सभी कोचिंग संचालकों से चर्चा की जाएगी। तय मापदंडों के हिसाब से कागजात नहीं मिले तो कार्रवाई निश्चित तौर पर की जाएगी। -अंजली शाह, एसडीएम, ब्यावरा

मेरे जेहन में मामला नहीं
मेरे जेहन में फिलहाल मामला नहीं है। पूरे मामलों को देखने के बाद ही कुछ कहा जा सकेगा। मैं संबंधित एसडीएम और संबंधित शिक्षा अधिकारी से चर्चा करात हूं। जल्द ही उचित कार्रवाई करेंगे। -बीएस कुलेश, प्रभारी कलेक्टर, राजगढ़