स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

शिक्षक-शिक्षिकाओं के व्हाट्सएप ग्रुप में डाली पोर्न फिल्म, मचा बवाल, सकते में एडमिन, फिर हुआ जो जानें पूरा मामला...

Deepesh Tiwari

Publish: Sep 21, 2019 18:35 PM | Updated: Sep 22, 2019 08:00 AM

Rajgarh

- शिक्षा विभाग के कर्मचारी (लेखापाल) की करतूत...
- ब्यावरा के समस्त शिक्षकों ने की शर्मनाक घटना की निंदा, थाना प्रभारी-एसपी से शिकायत कर कार्रवाई की मांग की...

ब्यावरा@राजेश कुमार विश्वकर्मा की रिपोर्ट...

लोगों में सोशल मीडिया (वाट्स-एप, फेसबुक, ट्वीटर इत्यादि) के उपयोग की लत इस कदर हावी हो गई है कि इसका दुरुपयोग करने से भी वे नहीं चूक रहे। ताजा मामला शिक्षा विभाग का सामने आया है।

शिक्षक-शिक्षिकाओं के एक ग्रुप में बीआरसी ब्यावरा के लेखा-पाल (गणक) ने पोर्न वीडियो डाल दिए, इससे रात में ही बवाल मच गया। न सिर्फ तमाम शिक्षक बल्कि ग्रुप एडमिन भी सकते में आ गए।

मामले में शिक्षकों ने थाना प्रभारी और एसपी को पोर्न वीडियो डालने वाले जन शिक्षा केंद्र में पदस्थ लेखा पाल अरुण कुमार दुबे की शिकायत दर्ज करवाई है।

उन्होंने ग्रुप में जुड़ी तमाम शिक्षिकाओं और शिक्षकों के हस्ताक्षर कर आवेदन तैयार किया और थाना प्रभारी को दिया है। उसमें उल्लेख किया है कि गणक दुबे द्वारा 19 सितंबर को रात 8.23 और 8.26 बजे दो पोर्न वीडियो डाले गए, जिन्हें हटाया भी नहीं गया।

ग्रुप में तमाम महिला शिक्षिकाएं भी जुड़ी हुई हैं। उनके इस कृत्य से शिक्षक-शिक्षिकाओं की भावनाओं को ठेस पहुंची है, इसी आधार पर शिकायत कर उचित कार्रवाई की मांग की गई है। इस दौरान ब्लॉक के शिक्षक रामचरण वर्मा, संजय गुर्जर, महेंद्र कुमार, संदीप गुर्जर सहित तमाम शिक्षिकाओं ने लिखित शिकायत दर्ज करवाई है।

नियम से एडमिन दोषी, लेकिन उन्होंने ही विभाग को लिखा
वाट्स-एप या सोशल मीडिया के किसी भी ग्रुप में इस तरह की अश्लीलता फैलाने पर एडमिन ही नियमानुसार दोषी होता है, आईटी एक्ट की विभिन्न धाराओं में उस पर ही कार्रवाई की जाती है।

देशभर में बढ़ते सोशल मीडिया के दुरुपयोग के बाद इसके लिए अतिरिक्त कानून बनाया गया है। उसी के हिसाब से सोशल मीडिया से भड़काऊ मैसेज डालने, अश्लीलता फैलाने, सांप्रदायिक तनाव भड़काने सहित अन्य तमाम प्रकार की गड़बडिय़ों के लिए पुलिस बिना किसी शिकायत के खुद फरियादी बनकर भी कार्रवाई की हकदार होती है।


नियमानुसार होगी कार्रवाई
सोशल मीडिया से जुड़ा मामला है, एडमिन से मोबाइल से पूरी जानकारी ली जाएगी। जिसने भी वीडियो डाला है उस पर नियमानुसार कार्रवाई होगी। वैसे आम तौर पर एडमिन इसमें दोषी रहता है लेकिन उन्होंने पहले ही शिकायत दे दी, इससे दोषी डालने वाला हुआ।
- डीपी लोहिया, थाना प्रभारी, ब्यावरा