स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

पुलिस फायरिंग के बाद पकड़ाए आरोपी के पास से मिली 20 लाख की स्मैक

Praveen tamrakar

Publish: Jul 19, 2019 04:13 AM | Updated: Jul 18, 2019 23:49 PM

Rajgarh

मांडाखेड़ा जोड़ पर जीरापुर पुलिस के एसआई और आरक्षक द्वारा की गई हवाई फायरिंग में पकड़ाए एक आरोपी के पास से पुलिस ने करीब दोसौ ग्राम स्मैक जब्त की है

राजगढ़. बुधवार को खिलचीपुर के मांडाखेड़ा जोड़ पर जीरापुर पुलिस के एसआई और आरक्षक द्वारा की गई हवाई फायरिंग में पकड़ाए एक आरोपी के पास से पुलिस ने करीब दोसौ ग्राम स्मैक जब्त की है। जब्त की गई स्मैक की अन्तराष्ट्रीय कीमत करीब बीस लाख रुपए है।
गुरुवार को एसपी प्रदीप शर्मा ने पुलिस कन्ट्रोल रूम में प्रेसवार्ता करते हुए मामले की जानकारी दी। जानकारी अनुसार जीरापुर थाने के एसआई मंगल सिंह को बुधवार को जीरापुर कोर्ट के पास खिलचीपुर नाके पर स्मैक की डिलेवरी की सूचना मिली थी। सूचना के आधार पर एसआई एक आरक्षक के साथ मौके पर पहुंच गए। इसी बीच करीब एक घंटे के इंतजार के बाद उन्हें मिली सूचना के अनुसार बाइक क्रमांक एमपी 39 एमएम 7326 आते दिखाई दी, उस पर दो लोग सवार थे। पुलिस की मौजूदगी से अनभिज्ञ आरोपी बाइक को वहीं रोककर किसी का इंतजार करने लगे। पुलिस ने घेराबंदी करते हुए उन्हें गिरफ्तार करने का प्रयास किया। लेकिन वे पुलिस की गिरफ्त में आ पाते इसके पूर्व ही दोनों बाइक लेकर भाग खड़े हुए।

मंाडाखेड़ा जोड़ पर पुलिस ने की फायरिंग
आरोपियों को भागते देख पुलिस ने एक निजी वाहन से उनका पीछा किया, करीब पच्चीस किलोमीटर दूर मांडाखेड़ा जोड़ के पास पुलिस ने बाइक को ओवर टेक कर आरोपी बीरम सिंह तंवर निवासी बोरदाश्री और पप्पू तंवर निवासी बोरदाश्री को पकडऩे का प्रयास। लेकिन बीरम बाइक वहीं छोड़कर भाग गया । जबकि पप्पू बाइक से गिर गया उसे पुलिस ने धरदबोचा। भागते समय बीरम ने देशी कट्टा भी पुलिस की ओर तान दिया, ऐसे में बचाव के लिए एसआई ने हवाई फायर किया। जबकि दूसरे आरोपी पप्पू को गिरफ्तार करते हुए पुलिस ने उसके पास से करीब दोसौ ग्राम स्मैक अैार बाइक जब्त कर ली। पूछताछ में आरोपी ने स्मैक को बीरम द्वारा झालावाड़ के घाटोली बसस्टैंड से लाकर जीरापुर में सप्लाई करने की बात कही। हालांकि स्मैक किससे लाई गई थी और जीरापुर में किसे देनी थी, इस बारे में जानकारी नहीं मिली। इधर पुलिस द्वारा की गई फायरिंग ओर घटना से खुद को अनभिज्ञ बताने वाली खिलचीपुर एसडीओपी निशा रिड्डी दूसरे दिन पूरे मामले की श्रेय लेती नजर आईं।