स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

कब्जा दिलाने पहुंची प्रशासन की टीम के सामने बेहोश हुई महिला एक क्लीक पर जानें पूरा मामला

Rajesh Kumar Vishwakarma

Publish: Oct 16, 2019 18:29 PM | Updated: Oct 16, 2019 18:29 PM

Rajgarh

-पहले भी कब्जा दिलवाने पहुंच चुकी है टीम लेकिन नहीं बनीं थी बात, अब राजस्व, एनएचएआई, ओरिएंटल टीम की मौजूदगी में दिलाया

 

ब्यावरा. देवास-ब्यावरा फोरलेन के निर्माण में लंबे समय से बाधा बन रही जमीन पर कब्जा दिलवाने बुधवार को प्रशासनिक टीम मय बल के साथ करनवास के भाटखेड़ा गांव पहुंची। यहां एक ही परिवार के लोगों पर लंबे समय से कब्जा नहीं दिया जा रहा था। ऐसे में एनएचएआई, निर्माण एजेंसी ओरिएंटल और स्थानीय प्रशासन, पुलिस की मौजूदगी में कब्जा दिलवाकर जेसीबी चलवाई गई। इस बीच कब्जा हटता देख वहां मौजूद एक महिला गश खाकर गिर पड़ी, उन्हें उपचार के लिए सिविल अस्पताल पहुंचाया गया।

 


दरअसल, एबी रोड पर भाटखेड़ी गांव के पास की एक जमीन का मामला लंबे समय से अटका पड़ा था, जो कि प्रशासन के लिए भी चुनौती बना हुआ था। न एनएचएआई उस पर कब्जा दिला पा रही थी न ही प्रशासन। प्रशासन व एनएचएआई ने स्पष्ट कर दिया है कि यहां के जमीन मालिकों को नियमानुसार मुआवजा दिया जा चुका है, फिर भी ये कब्जा छोडऩे को तैयार नहीं है। इसी को लेकर बार-बार विवाद की स्थिति बन रही थी।

 

एसडीएम का कहना है कि कभी कोई आत्महत्या की धमकी देता तो कोई जहर खाने की। उन्हें तमाम नियमों के साथ तमाम जिम्मेदार अधिकारियों की मौजूदगी में समझाया गया तब जाकर वे मानें। इस दौरान एसडीएम के अलावा एसडीओपी एन. के. नाहर, एनएचएआई के श्री दहाड़े, ओरिएंटल के जे. पी. तिवारी सहित तमाम पुलिस बल मय एम्बुलेंस, फायर ब्रिगेड इत्यादि के साथ मौजूद रहे। इस दौरान शांतिबाई पति मानसिंह यादव (60) निवासी भाटखेड़ी कार्रवाई देख बेहोश हो गई। उन्हें एंबुलेंस से सिविल अस्पताल पहुंचाया गया, जहां उनकी तबीयत ठीक बताई जा रही है।

news_today_mp.jpg

एक ही परिवार के लोगों की है जमीन
भाटखेड़ी गांव के यादव समाज के एक ही परिवार के लोगों की जमीन का यह मामला है। अलग-अलग भाइयों के नाम पर जमीन है। उनका आरोप है कि हमें महज दो लाख रुपए बीघा का ही मुआवजा मिला, ऐसे कैसे हम जमीन दे दें। वहीं, प्रशासन, एनएचएआई का तर्क है कि जमीन का अधिग्रहण नियमानुसार ही हुआ है। यहां के लोग जानबूझकर इसे अटका रहे हैं। इससे पहले भी दो तत्कालीन एसडीएम (अंजली शाह और प्रदीप सोनी) यहां आ चुके हैं लेकिन हर बार बात नहीं बन पाती। इस बार काफी मशक्कत के बाद एनएचएआई को कब्जा दिलावाया गया।


एनएचएआई बनवाएगी पेट्रोल पम्प, विश्राम-गृह
फोरलेन प्रोजेक्ट में उक्त जगह को एनएचएआई ने अलग से अधिग्रहित किया है। यहां एनएचएआई द्वारा विश्राम गृह बनाया जाएगा, जिसमें खाने-पीने, रुकने की पूरी व्यवस्था होगी। साथ ही पेट्रोल पम्प की सुविधा भी इसी जगह पर मिलेगी। उक्त प्रोजेक्ट बनाकर एनएचएआई किसी निजी व्यक्ति को जिम्मेदारी सौंपेगी, जिसका फायदा आम आदमी को मिलेगी। एनएचएआई जल्द ही इसका काम शुरू करवाएगी।

एनएच को दिलवा दिया कब्जा
काफी दिन से जमीन अधिग्रहण का मामला अटका हुआ था। प्रशासन की टीम ने मय पुलिस बल के मौके पर पहुंचकर कब्जा दिलवा दिया है। अब वहां पर निमायनुसार एनएचएआई अपना प्रोजेक्ट बनाएगी।
-रमेश पांडे, एसडीएम, ब्यावरा