स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

जमीन विवाद: दो भाइयों में खूनी संघर्ष चले लाठी-फर्से, 13 घायल, एक गंभीर

Ram kailash napit

Publish: Aug 31, 2018 14:55 PM | Updated: Aug 31, 2018 14:55 PM

Rajgarh

पुलिस ने दोनों पक्षों की रिपोर्ट पर किया मामला दर्ज, घायलों को जिला अस्पताल में किया भर्ती

राजगढ़. पुश्तैनी जमीन पर कब्जे को लेकर राजगढ़ के कांशी गांव में दो सगे भाइयों के बीच हुए विवाद में दोनों ओर से खूब लाठी फर्से चले, जिसमें दोनों पक्षों के 13 लोगों घायल हो गए। इस विवाद के बाद एक गंभीर घायल को भोपाल रेफर किया गया है, वहीं दो अन्य की हालत भी गंभीर है।

गुरुवार सुबह करीब आठ बजे गांव के बाहर जमीन पर हुए विवाद के बाद डायल 100 से घायलों को जिला अस्पताल लाया गया। जहां से प्राथमिक उपचार के बाद एक पक्ष से गंभीर घायल राजेश पिता देवीसिंह तंवर को भोपाल रेफर किया गया है। वहीं विवाद के बाद पुलिस ने एक पक्ष पर हत्या के प्रयास जबकि दूसरे पक्ष पर मारपीट और बलवे का मामला दर्ज किया है। फिलहाल मामले में कोई गिरफ्तारी नहीं हुई है।

पुलिस की निष्क्रियता बनी विवाद का कारण
घटना के बाद जिला अस्पताल पहुंचे कांशी के ग्रामीण और दोनों पक्षों के परिजनों ने घटना के पीछे पुलिस की निष्क्रियता को कारण बताया। ग्रामीणों के अनुसार कांशी की इस जमीन के हिस्सें को लेकर अमरलाल और उसने भतीजे शंकरलाल के परिजनों के बीच पिछले करीब छह माह से कई बार विवाद हो चुका है। जिसकी जानकारी भी दोनों पक्षों सहित ग्रामीणों ने पुलिस को दी, लेकिन पुलिस ने बार बार हुए विवाद और जानकारी के बावजूद कोई कार्रवाई नहीं।

ये हुए घायल
एक पक्ष के मांगीलाल पिता अमरलाल, रामप्रसाद पिता अमरलाल, रायसिंह पिता अमरलाल, सरदार सिंह पिता अमरलाल, केसर सिंह पिता अमरलाल,रामबाबू पिता अमरलाल दूसरे पक्ष के जगदीश पिता देवीसिंह, शिवनारायण पिता बंशीलाल, शंकललाल पिता भंवरलाल, कैलाश पिता बंशीलाल, अनार सिंह पिता बंशीलाल, सुमेर सिंह देवीसिंह, राजेश पिता देवीसिंह।

खेत से मवेशी हटाने की बाद पर हुआ विवाद
दोनों पक्षों और पुलिस से मिली जानकारी अनुसार राजगढ़ के कांशी गांव में अमरलाल तंवर और उनके भाई मृतक बंशीलाल की पुश्तैनी जमीन है। घटना के समय अमरलाल के छह पुत्रों के मवेशी इस जमीन पर चर रहे थे। उसी समय शंकललाल के परिजन जगदीश, शिवनारायण, कुमेर सिंह आदि गांव के सरपंच, पटेल और चौकीदार के साथ मौके पर पहुंचे और इस जमीन को अपना बताते हुए वहां चर रहे मवेशियों को जमीन से हटाने की बात कही, लेकिन वहां मौजूद दूसरे पक्ष के मांगीलाल, रामप्रसाद आदि ने जमीन पर उनका भी हक होने की बात कर मवेशियों को हटाने से मना कर दिया। देखते ही देखते दोनों पक्षों के बीच विवाद इतना बढ़ गया कि दोनों ने एक दूसरे पर लाठी- फर्से से हमला कर दिया। जिसमें दोनों पक्षों के 13 लोग घायल हो गए। चौकीदार या अन्य ग्रामीणों की सूचना पर पहुंचे पुलिस के वाहन से घायलों को जिला अस्पताल पहुंचाया। जहां गंभीर हालत देखते एक पक्ष के राजेश पिता देवीसिंह को भोपाल रेफर किया गया है। जबकि दूसरे पक्ष के रायसिंह तंवर की हालत गंभीर बनी हुई है।

कांशी में हुए विवाद में दोनों पक्षों के कुल 13 घायल हुए है। एक पक्ष के राजेश तवंर की हालत गंभीर है। उसमें शंकरलाल की रिपोर्ट पर मांगीलाल सहित उसके पक्ष के सभी छह लोगों पर 307 व बलवे का मामला दर्ज किया गया है। जबकि केसर सिंह की रिपोर्ट पर शंकरलाल सहित उसके पक्ष के सात लोगों पर मारपीट व बलवे का मामला दर्ज किया है।
मुकेश गौर,थाना प्रभारी राजगढ़