स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

कमलनाथ और दिग्विजयसिंह अधिकारियों के माध्यम से देशभक्तों को दबाना चाहते हैं

Praveen tamrakar

Publish: Jan 20, 2020 23:38 PM | Updated: Jan 20, 2020 23:38 PM

Rajgarh

ब्यावरा में हुए बबाल के बाद राजनीति गरमा गई। इसको लेकर राजगढ़ पहुंचे विश्वास सारंग ने कहा कि दिग्विजयसिंह इस क्षेत्र से जुड़े हुए हैं।

राजगढ़. ब्यावरा में हुए बबाल के बाद राजनीति गरमा गई। इसको लेकर राजगढ़ पहुंचे विश्वास सारंग ने कहा कि दिग्विजयसिंह इस क्षेत्र से जुड़े हुए हैं। पर्दे के पीछे वह बहुत कुछ करते हैं। मुख्यमंत्री कमलनाथ और दिग्विजयसिंह अधिकारियों के माध्यम से देशभक्तों को दबाना चाहते हैं। एक तो अधिकारियों ने कानून अपने हाथ में लिया वहीं अब उन्हें यह संरक्षण दे रहे हैं।
अधिकारियों को ब्लेकमेल करते हुए अच्छी पोस्ट दिलवाने की बात करके इस तरह के आंदोलनों को कुचलने का प्रयास करते हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि अधिकारी भी सरकार में अपनी सीआर बेहतर करने के लिए इस तरह की कार्रवाई कर रहे हैं।

[MORE_ADVERTISE1]

किसने दिया मारने का अधिकार
विश्वास सारंग ने भाजपा कार्यकर्ताओं के साथ हुई मारपीट को लेकर कहा कि जिन अधिकारियों पर शांति व्यवस्था बनाने का दायित्व है वे खुद प्रदेश का माहौल बिगाडऩे और दंगा भड़काने जैसा काम करते दिखे। हमारे कार्यकर्ता मंदिर में भजन गा रहे थे और रघुपति राघव राजाराम गा रहे थे। वहां अंग्रेजों की तरह ताला लगाकर उन्हें बंद कर मारपीट भी की गई।
भाजपाई जोड़ रहे थे हाथ
सारंग ने कहा कि हमारे एक भी नेता या कार्यकर्ता ने अशांति फैलाने जैसा काम नहीं किया बल्कि हाथ जोड़ते रहे। क्योंकि जिस तरह से मजिस्टे्रट के पॉवर रखने वाली कलेक्टर कार्यकर्ताओं को मार रही थी। यदि इस बीच हथियारबंद पुलिसकर्मी भड़क जाते तो यह बहुत बड़ी घटना भी हो सकती थी। ज्ञापन देने के बाद विश्वास सारंग ने कहा कि आठ लोगों को जेल भेज दिया है। रातभर इन कार्यकर्ताओं के साथ मारपीट की गई। इस दौरान इसी मामले पर जमानत पर आए कैलाश मौर्य ने कहा कि बोड़ा के भूपेन्द्र राजपूत के साथ रातभर पुलिस ने मारपीट की और सभी को इसी तरह मारा।

[MORE_ADVERTISE2]

दो लोग भोपाल में भर्ती
इस घटना में घायल हुए विकास करोडिय़ा और कमलजीत शर्मा भोपाल में भर्ती है। जबकि पूर्व विधायक पूरसिंह पंवार को भी चोंटे आई। इसके अलावा उन्होंने बताया कि पूर्व विधायक मोहन शर्मा, अमरसिंह यादव के साथ भी मारपीट की गई।
जेल में पहुंचकर बोले घबराए नहीं हम साथ हंै
जिन आठ कार्यकर्ताओं को मामला दर्ज होने के बाद जेल भेजा गया। उन कार्यकर्ताओं से जेल में मिलते हुए विश्वास सारंग ने कहा कि घबराएं नहीं हम आपके साथ हैं।
&एक प्रतिनिधि मंडल ने ज्ञापन दिया है। उन्हें बताया कि वैधानिक कार्रवाई जो बनती थी वह की गई है। अभी जो कानून के हिसाब से कार्रवाई होगी। वह की जाएगी। अभी तक 124 लोगों के खिलाफ नामजद प्रकरण दर्ज किया है। थाने में किसी प्रकार की कोई मारपीट नहीं हुई है। 13 लोग अभी तक गिरफ्तार किए जा चुके हैं।
प्रदीप शर्मा, एसपी राजगढ़

[MORE_ADVERTISE3]