स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

खाली करो जर्जर सरकारी भवन

Bhanu Pratap Thakur

Publish: Nov 19, 2019 13:50 PM | Updated: Nov 19, 2019 13:50 PM

Rajgarh

अस्पताल में सालों पहले तैयार हुए भवनों की बदलेगी की सूरत लगभग 40 नए भवन की प्रशासकीय स्वीकृति मिली

राजगढ़। जिला चिकित्सालय में सालों पहले बनाए गए भवनों में अभी भी कर्मचारी और डॉक्टर रहे हैं। जबकि इनकी मियाद 40 साल से भी ज्यादा हो चुकी है। ऐसे में यह जर्जर अवस्था में पहुंच चुके हैं, लेकिन जगह और भवन की कमी के कारण कर्मचारी इन भवनों में ही रहने को मजबूर हैं।

पिछले दिनों लोक निर्माण विभाग द्वारा किए गए मूल्यांकन के बाद इन भवनों को जर्जर घोषित कर दिया गया। ऐसे में इनमें कोई नया निर्माण भी संभव नहीं है। यही कारण है कि अब इनकी सूरत बदलने के लिए यहां नए भवनों का निर्माण होगा।

इसके लिए जिला चिकित्सालय में रहने वाले कई कर्मचारी नर्सिंग स्टाफ को सीएमएचओ कार्यालय से नोटिस जारी कर दिए गए हैं, कि वे इन भवनों को खाली करें और जब तक नए भवन तैयार नहीं होते तब तक वह कहीं और रहने की व्यवस्था देखें। इस आदेश के बाद कर्मचारियों में भी हड़कंप मच गया है।

क्योंकि कुछ कर्मचारी तो ऐसे हैं, जो सालों से इन्हीं भवनों में रह रहे हैं। ऐसे में अब नए भवनों की तलाश और किराए के मकानों में रहना उनके लिए अजीब सहयोग होगा। लेकिन सीएमएचओ कार्यालय से जो नोटिस जारी हुए हैं। उनमें निर्धारित तारीख भी दे रखी है, कि इससे पहले अनिवार्य रूप से भवनों को खाली करना ही होगा और यदि ऐसा नहीं होता तो ठेकेदार के माध्यम से भवन तोड़े जाएंगे।

जिला चिकित्सालय में अभी करीब 25 सरकारी भवन ऐसे हैं जिनमें डॉ सहित अन्य कर्मचारी रह रहे हैं। यह भवन सीएमएचओ कार्यालय की पीछे की तरफ है। जर्जर भवनों की स्थिति को देखते हुए कई डॉक्टर तो अस्पताल में रहते भी नहीं है और वे निजी मकानों में किराए से रह रहे हैं।

ऐसे में उन्हें अस्पताल तक आने-जाने में खासी परेशानी होती है। इसी समस्या के निकाल के लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा 12 डॉक्टर्स क्वार्टर एवं 28 अन्य कर्मचारियों और नर्सिंग स्टाफ के लिए नए भवनों का प्रस्ताव भेजा गया था, यह प्रस्ताव शासन ने मंजूर करते हुए नए भवनों के निर्माण के लिए प्रसाकीय स्वीकृति दे दी है।


करोड़ो की लागत से होंगे तैयार
बताया जा रहा है कि आठ क्वार्टर एफ व अन्य जी और एच टाइप के भवन बनाए जाएंगे। इनकी लागत पांच करोड़ 75 लाख है। अस्पताल प्रबंधन की माने तो इन भवनों का निर्माण टीआई को दौरा कराया जाएगा। जिसमें विभिन्न सुविधाओं के साथ ही सड़क पानी बिजली आदि की व्यवस्था भी होगी और यह क्वार्टर अस्पताल परिसर में उसी जगह बनाए जाएंगे जहां अभी सरकारी भवन बने हुए।


सरकारी भवनों को जर्जर घोषित करने के बाद हम इनमें कोई नया निर्माण नहीं करा पा रहे थे और न ही इनमें सुधार को लेकर कोई राशि जारी कर सकते थे। यही कारण है कि अब भवनों को नया बनाया जा रहा है।
- दिलीप कुशवाहा, सब इंजीनियर जिला चिकित्सालय

सीएमएचओ सर के निर्देशों पर यह प्रस्ताव शासन को भेजा गया था। जिसके बाद 30 क्वार्टर को मंजूरी मिल गई है। जबकि 10 क्वार्टर और बनाए जाएंगे। इसकी मंजूरी भी शीघ्र ही मिल जाएगी।
- एसए सोलंकी, डीपीएम रह्वाजगढ़।

[MORE_ADVERTISE1]