स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

भारतीय रेलवे का नया प्लान: इस नई पहल से यात्रियों को होगा फायदा

Deepesh Tiwari

Publish: Dec 09, 2019 10:00 AM | Updated: Dec 09, 2019 10:01 AM

Rajgarh

भारतीय रेलवे की नई व्यवस्था...

राजगढ़। यात्रियों को बेहतर सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए भारतीय रेलवे जल्द ही एक नई व्यवस्था की शुरुआत करने जा रही है। जिससे एक ओर जहां यात्रियों को फायदा होगा। वहीं इस नए प्लान से रेलवे की आय में भी कुछ बढ़ोतरी की आशा है।

जानकारी के अनुसार यात्रियों को बेहतर सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए भारतीय रेलवे की नई व्यवस्था के तहत सफर के दौरान यात्रियों को उनकी पसंद का खाना मिलेगा। रेलवे ने यात्रियों के लिए एक नई पहल की है, जिसका नाम है 'खुशियों की डिलीवरी।'

[MORE_ADVERTISE1]

700 फूड वेंडर के साथ करार
सामने आ रही जानकारी के अनुसार भारतीय रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉर्पोरेशन ( IRCTC ) अपने मौजूदा कैटरिंग सिस्टम को रिब्रैंड करने की कोशिश कर रही है, जिसके तहत आईआरसीटीसी ने 700 फूड वेंडर के साथ करार किया है।

जानकारों के अनुसार बीते सालों में आईआरसीटीसी ने कई सुधार किए हैं। किचन को सीसीटीवी से मॉनीटर करना इनमें से एक है। इसके अतिरिक्त ट्रेन में जो खाना मिलता है, अब उसमें क्यूआर कोड भी होता है। इस कोड को स्कैन कर यात्री बेस किचन को लाइव देख सकते हैं।

[MORE_ADVERTISE2]

350 रेलवे स्टेशनों पर डिलीवरी...
इनके माध्यम से यात्रियों को करीब 350 रेलवे स्टेशनों पर उनके मनपसंद खाने की डिलीवरी मिलेगी। इन 350 रेलवे स्टेशनों का चयन इस प्रकार हुआ है कि इनसे गुजरने वाली लगभग सभी ट्रेनें और रेलवे रूट कवर हो जाएं और ज्यादा से ज्यादा यात्री इसका फायदा उठा सकें।

आईआरसीटीसी की इस योजना के तहत यात्री सफर के दौरान सबवे, डोमिनॉज पिज्जा, बिरयानी ब्लूज, हल्दीराम्स, फासोस, निरुलाज और सरवाना भवन सहित कई जगहों से खाना ऑर्डर कर सकेंगे।

[MORE_ADVERTISE3]

ई-कैटरिंग: मिल रहे फूड ऑर्डर
ज्ञात हो कि आईआरसीटीसी को हर माह करीब 21,000 फूड ऑर्डर ई-कैटरिंग के माध्यम से मिलते हैं। एक से डेढ़ साल पहले तक की बात करें, तो तब आईआरसीटीसी को आठ हजार फूड ऑर्डर ही ई-कैटरिंग के माध्यम से मिलते थे। प्रत्येक ऑर्डर पर आईआरसीटीसी को 12 फीसदी कमीशन मिलता है।