स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

कुएं में गिरे बच्चे की मौत, तंत्र साधना से करते रहे जिंदा करने का प्रयास: with Video

Deepesh Tiwari

Publish: Oct 20, 2019 12:30 PM | Updated: Oct 20, 2019 12:30 PM

Rajgarh

आठ साल का बच्चा कुएं में गिरा छह घंटे बाद मिला शव...

राजगढ़। शहर से करीब 15 किलोमीटर दूर खजूरी गांव के पास एक आठ वर्षीय बालक अचानक खेत में बने कुएं में गिर गया।

दरअसल एक किसान सुबह अपने खेत पर फसल काट रहा था साथ ही उसका 8 साल का बच्चा भी खेत पर मौजूद था, जो खेलते खेलते खेत में ही बने कुएं में गिर गया गिरने से बच्चे की मौत हो गई। बच्चे को करीब 6 घंटे में लगभग 45 फीट गहरे कुएं से बच्चे को निकाल लिया गया।


तंत्र साधना: आग लगाकर दी भाप...
बच्चे का सदमा परिजनों पर इस कदर छाया कि वह बेसुध हो गए यहां ग्रामीणों ने बच्चे को जिंदा करने के लिए जीरापुर से एक तंत्र साधक को बुला लिया जिसने गांव में ही आग लगाकर भाप देते हुए बच्चे को जिंदा करने का प्रयास किया लेकिन 6 घंटे से पानी में डूबे बच्चे की सांस है, जब नहीं लौटी तो शाम को उसका अंतिम संस्कार कर दिया गया।

ऐसे समझें पूरी घटना...
जानकारी के अनुसार घटना के समय बालक के पिता और परिजन खेत में लगी सोयाबीन काटने में लगे हुए थे। यहां उनके साथ 8 साल का बच्चा भी खेत पर मौजूद था, जो खेलते खेलते खेत में ही बने कुएं में गिर गया गिरने से बच्चे की मौत हो गई ग्रामीणों ने जब इस बात की सूचना पुलिस को दी तो पुलिस की टीम भी मौके पर पहुंची और करीब 6 घंटे में लगभग 45 फीट गहरे कुएं से बच्चे को निकाल लिया गया।

शनिवार सुबह करीब दस बजे तक बालक उदय पिता भंवरलाल सौंधिया वहीं खेल रहा था। आधे घंटे बाद जब बालक नजर नहीं आया तो पिता ने उसकी जानकारी ली। उस समय बालक की चप्पल कुएं के पानी में तैरती दिखी।

खेत में बने इस पक्के कुएं की मुंडेर जमीन के बराबर होने के कारण परिजनों ने बालक के कुएं में गिरने का अंदाजा लगाया और मदद के लिए ग्रामीणों को बुलाया, लेकिन कुएं में पानी अधिक होने के कारण किसी को कुछ नजर नहीं आया।

ऐसे में घटना की सूचना राजगढ़ कोतवाली और डायल 100 की टीम को दी गई, जिसके बाद दोपहर करीब 12 बजे पुलिस टीम मौके पर पहुंची, लेकिन काफी प्रयास के बाद काफी देर तक बालक को कोई सुराग नहीं मिल पाया था। ऐसे में घटना की सूचना एसपी को दी गई। तब जाकर वहां रेस्क्यू टीम पहुंची।

रेस्क्यू टीम ने बालक की तलाश का प्रयास किया, लेकिन कोई सुराग नहीं मिला, तब ग्रामीणों ने अपने खेतों में लगे छह वॉटर पंप से कुएं को आधे से आधिक खाली किया तब जाकर राजगढ़ से पहुंचे गोताखोर ओमप्रकाश मेवाड़े, मनीष प्रजापति ने अपने साथियों के मदद से दोपहर करीब तीन बजे बालक को बाहर निकाला।

पीएम के लिए राजी नहीं हुए परिजन
दोपहर करीब तीन बजे जब बालक को कुएं से निकाला गया, तब तक पांच घंटे से अधिक हो चुके थे। उसकी मौत हो चुकी थी, शव को बाहर निकाला गया।

मौके पर मौजूद थाना प्रभारी ने पीएम के लिए कहा तो ग्रामीणों ने पीएम नहीं करवाने को लेकर सरपंच की सहमति से पंचनामा तैयार कर पुलिस को सौंप दिया, जिसके बाद शव परिजनों को सौंप दिया गया। ग्रामीणों और परिजनों का बालक से लगाव छूट नहीं रहा था।

ऐसे में जिसने जैसी राय दी, परिजन वैसे करने लगे। हालात यहां तक पहुंचे की बच्चे के डूबने के छट घंटे बाद निकाले गए बालक के जिंदा होने की आस में कुछ अजीब प्रयास भी करने लगे। काफी देर बाद भी जब उन्हें कोई सफलता नहीं मिली तब ग्रामीणों कहने पर देर शाम अंतिम संस्कार की तैयारी की गई।

रेस्क्यू टीम की मदद से शव कुएं से निकाला
खजूरी गांव के पास एक आठ वर्षीय बालक अपने खेत में बने कुएु में गिर गया था, जिससे उसकी मौत हो गई। रेस्क्यू टीम की मदद से बालक का शव कुएं से निकाल लिया है। परिजन ओर ग्रामीणों ने बालक के पीएम से मना कर दिया।
- जेबी राय थाना प्रभारी राजगढ़