स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

कागजों में ही बना दिए सरकारी कुएं और सीसी रोड, ट्यूबवेल लगाई लेकिन है नहीं, मोटर पम्प भी खरीद डाले

Rajesh Kumar Vishwakarma

Publish: Jan 18, 2020 11:55 AM | Updated: Jan 18, 2020 11:55 AM

Rajgarh

- ग्राम पंचायत तलावड़ा महाराजा में भ्रष्टाचार की शिकायत
- पत्रिका एक्सक्लूसिव
- ग्रामीणों ने कहा हमें पता ही नहीं किसने और कब राशि निकाल ली, फर्जी बिल लगाकर रुपए भी निकाले

ब्यावरा. ग्राम पंचायतों के चुनाव आते ही पांच साल में हुई गड़बडिय़ां भी उजागर होने लगी हैं। ब्यावरा जनपद की ग्राम पंचायत तलावड़ा महाराजा में भ्रष्टाचार का मामला सामने आया है। जहां विभिन्न मदों से फर्जी तरीके से रुपए निकालकर दो करोड़ से अधिक के गबन का आरोप लगाया गया है।

दरअसल, ग्राम पंचायत के दोनों ही गांव (पाड़ली महाराजा और तलावड़ा महाराजा) में तमाम काम कागजों से बाहर नहीं निकल पाए। यहां कागजों में ही तो कपिल जल धारा के कुएं बन गए और कागजों में ही सीसीकरण हुआ। इसके अलावा सार्वजनिक कुएं, ट्यूबवेल, मोटर पम्प इत्यादि के नाम के भी फर्जी बिल लगाकर रुपए निकाल लिए गए।

लगभग पांच साल बीतने को है, अब जब संबंधित हितग्राहियों से इसके बारे में पूछा गया तो हकीकत सामने आई। उन्होंने कहा कि हमें न तो कोई कुआं मिला ही न ही किसी अन्य योजना का लाभ। हमारे नाम से कब राशि निकल गई मुझे नहीं पता।

आरटीआई में सामने आई हकीकत में चौंका देने वाले आंकड़े सामने आए हैं। जिसमें सरपंच, सचिव और जीआरएस ने डूब क्षेत्र में ही कुएं बनाकर उनके नाम पर राशि निकाल ली। साथ ही दो लाख रुपए से सरकारी स्कूल में बनने वाले अतिरिक्त कक्ष के रुपए तो जारी हुए लेकिन हकीकत में वह कक्ष बना ही नहीं।

[MORE_ADVERTISE1]कागजों में ही बना दिए सरकारी कुएं और सीसी रोड, ट्यूबवेल लगाई लेकिन है नहीं, मोटर पम्प भी खरीद डाले[MORE_ADVERTISE2]

ग्रामीणों ने खुदवाया कुआं, सरपंच ने उसी पर निकाले 05 लाख
ग्राम पंचायत के ही गांव तलावड़ा महाराजा में करीब 05.35 लाख रुपए सार्वजनिक कुएं के नाम पर निकाल लिए गए। ग्रामीणों ने बताया कि यहां सार्वजकि तौर पर लोगों ने कुआं खुदवाया था, लेकिन उसी के नाम पर सरपंच ने राशि निकाल ली और वहां शासन स्तर पर बनाना दर्शा दिया।

गांव की लीलालाबाई पति मांगीलाल लोधा के नाम पर 2 लाख 30 हजार का कुआं बनाना पंचायत दर्पण पोर्टल पर दर्शाया गया है लेकिन हकीकत में बना कुछ भी नहीं है। वहीं, जगदीश पिता मांगीलाल वर्मा के नाम पर 16 हजार का गड्ढा बनाना दर्शाया गया लेकिन हकीकत में उसे कुछ नहीं मिला। आरटीआई में ऐसी अन्य कई गड़बडिय़ां सामने आई हैं जिनके माध्यम से तमाम प्रकार की गड़बिड़य़ां पकड़ में आई हैं।

ग्रामीण बोले- हमें तो कुएं मिले न राशि
न कोई गड्ढा न कोई कुआं हमारे यहां खुदा। रुपए किसने निकाले यह भी हमें नहीं पता। हमें तो अब पता चल रहा है कि हमारे नाम पर भी राशि जारी हो गई।
- मावसिंह पिता लक्ष्मणजी सौंधिया, निवासी, पाड़ली महाराजा
2.&0 लाख रुपए मेरे कुएं के नाम पर निकाले गए और 16 हजार रोड़ी के गड्ढे के निकाले गए लेकिन इसमें से किसी भी राशि का हमें पता नहीं है।
- रमेश पिता मदनलाल वर्मा, निवासी, पाड़ली महाराजा

[MORE_ADVERTISE3]

दो करोड़ से अधिक की गड़बड़ी
पूरी पंचायत में दो करोड़ से अधिक का भ्रष्टाचार हुआ है। मैंने इस संबंध में सीईओ को शिकायत की है। यहां जनका की सुविधा के लिए आए शासन के रुपए का दुरुपयोग सरपंच, सचिव और जीआरएस ने कर लिया। आरटीआई में तमाम गड़बडिय़ां उजागर हो गई हैं।

- रूपसिंह सौंधिया, शिकायतकर्ता, ग्राम पाड़ली महाराजा

नियमानुसार टीम बनाकर जांच करवाएंगे
नियमानुसार जांच करवाएंगे। बकायदा इसके लिए टीम गठित की जाएगी, जो कि एक-एक बिंदू पर जांच करेगी। यदि गड़बड़ी हुई है तो नियमानुसार वसूली की कार्रवाई की जाएगी। एक बार जांच में स्पष्ट होने पर ही हम आगे की कार्रवाई सुनिश्चित करेंगे।
- सतीशदत्त शर्मा, सीईओ, जनपद पंचायत, ब्यावरा