स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

'दिशा' केस : कुछ ने किया आरोपियों के एनकाउंटर का स्वागत, तो कुछ ने जताई चिंता

Deepesh Tiwari

Publish: Dec 07, 2019 11:11 AM | Updated: Dec 07, 2019 11:11 AM

Rajgarh

पुलिस की कार्रवाई पर स्कूलों में भी छात्राओं और शिक्षिकाओं ने जाहिर की खुशी...

राजगढ़। दिल्ली में निर्भया कांड के बाद हैदराबाद की 'दिशा' के साथ हुई सामूहिक रेप की घटना के बाद उसे जिंदा जलाकर मार देने के मामले ने पूरे देश को दहला दिया था।

इसके बाद चारों तरफ बलात्कारी और हत्यारों के खिलाफ पूरे देश में कड़ी कार्रवाई की मांग लोगों द्वारा की जा रही थी। कोई नया कानून लाने की बात कर रहा था तो कहीं फास्ट ट्रैक कोर्ट में जल्द से जल्द सजा की मांग हो रही थी। इसी बीच पुलिस की जांच के दौरान जब आरोपियों को गुरुवार-शुक्रवार की दरमियानी रात मौका ए वारदात पर जांच के लिए ले गए।

[MORE_ADVERTISE1]

पुलिस की मानें तो आरोपियों ने भागने का प्रयास किया। इसी दौरान पुलिस ने उन्हें भागने से रोकने के लिए चारों का एनकाउंटर कर दिया। जब यह बात लोगों तक पहुंची तो पुलिस की इस कार्रवाई का चारों तरफ स्वागत किया गया।

हालांकि कुछ जगह यह भी सवाल उठे कि कहीं यह अपराधियों के एनकाउंटर का ही चलन न बन जाए। शहर के कुछ लोगों से जब पत्रिका ने चर्चा की तो उन्होंने अपने अपने तरीके से इस घटना पर अपनी प्रतिक्रिया दी।

[MORE_ADVERTISE2]'दिशा' केस : आरोपियों के एनकाउंटर का किसी ने किया स्वागत, तो किसी ने जताई चिंता[MORE_ADVERTISE3]

बलात्कारियों का जो एनकाउंटर हुआ है। वह तारिफे काबिल है। इस तरह की कार्रवाई से निश्चित विकृत मानसिकता वाले लोगों में डर पैदा होगा। इसमें देश में मातृ शक्ति के लिए स्वस्थ वातावरण मिलेगा।
- अमित सोनी, व्यवसायी राजगढ़


न्यायिक व्यवस्था व राजनीतिक संकल्प शक्ति के प्रति गहरे अविश्वास की दुखद सूचना भी है। जनतंत्र के रूप में हम सबको इस व्यवस्था के कायाकल्प के विषय में सोचना ही होगा।
- एहतेशाम सिद्धिकी, एडवोकेट

जो हुआ सही हुआ। एक तरफ वह पहले ही आपराधिक प्रवृत्ति के थे। दूसरी तरफ पुलिस के हथियार छीनकर भागने का प्रयास कर रहे थे। हो सकता वे पुलिस पर ही फायर कर देते।
- बृजमोहन सरावत, अध्यक्ष हिंदू चेतना मंच

ऐसी घटनाएं जब सुनने को मिलती है तो मन कांपने लगता है। जो लंबी न्यायालीन प्रक्रिया है। उसे छोटा होना चाहिए। जो न्याय पुलिस ने किया वह सही है।
- ऋचा गौड़, छात्रा ब्यावरा

जब भी कोई इस तरह के अपराध के बारे में सोचेगा उसे पुलिस की यह कार्रवाई जरूर याद आएंगे। इसमें न फरियाद और न कोई सुनवाई सीधा न्याय। बधाई पुलिस को।
- लता तोमर, गृहिणी राजगढ़


निर्भया मामले में प्रकरण विचाराधीन है। न्यायालीयन प्रक्रिया इतनी लंबी नहीं होना चाहिए। यहां आरोपी भागने का प्रयास कर रहे थे। इसमें एनकाउंटर हुआ, जिसका स्वागत पूरा देश ने किया।
- नमृता विजयवर्गीय, राष्ट्रीय अध्यक्ष विजयवर्गीय समाज