स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

प्रशिक्षण लिए बगैर ही किया बीपीएल परिवारों के सत्यापन का बहिष्कार

Praveen tamrakar

Publish: Nov 19, 2019 04:19 AM | Updated: Nov 18, 2019 23:51 PM

Rajgarh

रोजगार सहायकों व सचिवों ने इसका विरोध करते हुए कार्य का बहिष्कार कर दिया

राजगढ़. सार्वजनिक राशन वितरण प्रणाली में पारदर्शिता लाने के उद्देश्य से शासन द्वारा तय फार्मेट के तहत बीपीएल परिवारों का सत्यापन कराया जाना है। इसी क्रम में रोजगार सहायकों और आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के माध्यम से होने वाले इस सत्यापन कार्य का प्रशिक्षण सोमवार को जिला पंचायत सभाकक्ष में रखा गया था, लेकिन सभाकक्ष में पहुंचने से पहले ही रोजगार सहायकों व सचिवों ने इसका विरोध करते हुए कार्य का बहिष्कार कर दिया और जिला पंचायत से कलेक्टर एवं जिला पंचायत सीईओ के नाम ज्ञापन देते हुए उन्हें इस कार्य से दूर रखने के लिए कहा।

[MORE_ADVERTISE1]

रोजगार सहायकों ने इस प्रशिक्षण को समझा भी नहीं और कहा कि पंचायत चुनाव नजदीक हैं। ऐसे में विभिन्न राजनीतिक दलों का दबाव उन पर हो सकता है। किसी का भी नाम कटता है या जुड़ता है तो सीधे वे हमारे ऊपर आएंगे और विवाद की स्थिति उत्पन्न होगी। रोजगार सहायकों ने इस कार्य का विरोध करते हुए कहा कि जिस तरह प्रधानमंत्री आवास में उन्हें ग्रामीणों के विरोध का सामना करना पड़ता है उसी तरह इसमें भी हम ही टारगेट होंगे। प्रशिक्षण का बहिष्कार करने के बाद उन्होंने कहा कि यह कार्य राजस्व विभाग से ही कराया जाए।

[MORE_ADVERTISE2]

आंगनबाड़ी कार्यकर्ता पहुंचीं प्रशिक्षण में
आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं ने बाद में यह प्रशिक्षण लिया और शासन के आदेश को मानते हुए यह सत्यापन कार्य कराने की भी बात कही। हालांकि ग्रामीण अंचल में उन्होंने कहा कि नाम कटने या बढऩे से उन्हें भी परेशानी का सामना करना पड़ेगा।

[MORE_ADVERTISE3]

क्या है फार्मेट
आंगनबाड़ी कार्यकताओं और रोजगार सहायकों के माध्यम से बीपीएल कार्डधारकों का सत्यापन कराने में जो फार्मेट तैयार किया गया है उसमें परिवार की स्थिति, सदस्यों की संख्या, कालोनी, मकान, गांव आदि की जानकारी के साथ ही वाहन, आवास, आयकरदाता, कर्मचारी व राशन कार्ड में दिए गए सदस्यों की वर्तमान स्थिति को चिंहित कर शासन को भेजा जाना है। सारी जानकारी ऑनलाइन होगी। इसे कोई भी कहीं से भी देख सकता है।

& बीपीएल कार्डों के सत्यापन में कोई ऐसी जानकारी नहीं है जिससे विवाद की स्थिति निर्मित हो। यदि पंचायत सचिव व रोजगार सहायक यह प्रशिक्षण लेते तो उन्हें समझ आता। लेकिन वे प्रशिक्षण लेने से पहले ही चले गए।
देवेन्द्र मेहर, खाद्य निरीक्षक
& हमारा पद सीधा जन-जन से जुड़ा हुआ है और यह समय चुनाव का है। यदि हम कोई जानकारी भरकर भेजते हैं और किसी का नाम कटता या जुड़ता है तो हमें परेशानी होगी।
सागरसिंह, अध्यक्ष रोजगार सहायक संघ राजगढ़