स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

Theft news : अपराधियों के हौसले बुलंद, पेट्रोल पंप से उड़ा ले गए दस लाख रुपए

Amit Mishra

Publish: Jul 15, 2019 13:47 PM | Updated: Jul 15, 2019 13:47 PM

Raisen

शनिवार की रात जिले के दो अलग-अलग थाना क्षेत्रों में अपराधियों ने दो वारदातों को अंजाम दिया।

रायसेन/सुल्तानपुर/गैरतगंज। जिले में अपराधियों के हौसले बुलंद है। आए दिन आपराधिक घटनाएं सामने आ रही हैं। चोरी theft , लूट के साथ हत्या जैसे अपराध पनप रहे हैं, जबकि पुलिस के हत्थे आरोपी नहीं लग रहे हैं। शनिवार की रात जिले के दो अलग-अलग थाना क्षेत्रों में अपराधियों ने दो वारदातों को अंजाम दिया। सुल्तानपुर थाना क्षेत्र में एक पेट्रोप पंप petrol pump से लगभग 11 लाख रुपए चोरी की घटना हुई, वहीं सागर रोड पर गढ़ी घाटी पर अपराधियों ने रॉपी लगाकर दो ट्रकों trucks को रोका और लूट की वारदात को अंजाम दिया।

 

10 लाख 85 हजार रुपए की चोरी
सुल्तानपुर में रायसेन रोड स्थित भारत पेट्रोलियम के पेट्रोल टैंक के ऑफिस से शनिवार रात अज्ञात चोर 10 लाख 85 हजार के केश पर हाथ साफ कर भाग गए। घटना के समय टैंक के कर्मचारी सारी राशि एक बैग में रखकर ऑफिस में ही रखकर ढाबे पर खाना खाने गए थे। 15 मिनट बाद जब वापस लौटे तो शटर के ताले टूटे मिले और रुपयों से भरा बैग गायब था। घटना की जानकारी मिलने पर रविवार को सुबह एसपी मोनिका शुक्ला और एएसपी अवधेश प्रताप सिंह ने मौके पर पहुंचकर मुआयना किया और टैंक के कर्मचारियों से घटना के बारे में विस्तार से जानकारी ली।


घटना के बाद टैंक के कर्मचारी राजेंद्र, दिनेश, राजू और भूरा ने सुल्तानपुर पुलिस को सूचना दी। मौके पर पहुंचे थाना प्रभारी दिनेश शर्मा ने क्षेत्र की घेराबंदी शुरू कर दी, लेकिन सुबह तक कोई सुराग हाथ नहीं लगा।

सीहोर-विदिशा टीम भेजी
थाना प्रभारी ने बताया कि चोरों का सुराग लगाने एक टीम बनाकर सीहोर जिले के एक गांव में भेजी है तथा दूसरी टीम को विदिशा जिले में भेजा गया है। जानकारी मिली है कि पुलिस टैंक पर काम करने वाले पुराने कर्मचारियों की तलाश में है।

 

पेट्रोल पंप पर लापरवाही
इस चोरी की घटना में पंप के कर्मचारियों की भी बड़ी लापरवाही उभरकर सामने आई है। प्राप्त जानकारी के अनुसार कर्मचारी शटर पर मात्र एक ताला लगाकर ढाबे पर चले गए थे। इतनी बड़ी राशि रात में भी पंप पर पर ही रखी गई थी, जबकि इसे समय से बैंक में जमा कराना था। पंप पर कोई तिजोरी भी नहीं थी। सभी कर्मचारी एक साथ पंप से गए थे।


यहीं आत्महत्या की थी
इसी पेट्रेल पंप पर कुछ महीने पहले पंप के ही एक कर्मचारी ने फांसी लगाकर आत्महत्या की थी। पंप पर जो भी कर्मचारी रहते हैं वह अपना एक कर्मचारी और रखकर उससे काम करवाते हैं।

 

news

चालकों के साथ मारपीट की
गैरतगंज मुख्यालय से 10 किमी दूर भोपाल सागर मुख्य सड़क मार्ग पर गढ़ी के जंगल में बीती रात रापी लगाकर दो ट्रकों को अज्ञात लुटेरों ने लूट लिया। नकाब पहने हुए लुटेरे आधा दर्जन से ज्यादा संख्या में थे। लुटेरों ने लूट की इस घटना के साथ चालकों के साथ भी मारपीट की, जिससे वे घायल हो गए। लुटेरे अपने साथ नगदी एवं अन्य सामान लेकर भाग गए। बाद में पुलिस को सूचना मिलने पर घायलों को इलाज के लिए अस्पताल ले जाया गया। पुलिस लुटेरों की तलाश कर रही है।

 

भोपाल की ओर जा रहे थे
घटना स्थल गढ़ी पुलिस चौकी से महज तीन किमी दूरी पर स्थित है। मिली जानकारी के अनुसार तहसील के गढ़ी कस्बे के पास जंगली क्षेत्र में मुख्य सड़क मार्ग पर शनिवार-रविवार की दरमियानी रात दो मालवाहक ट्रक क्र. एमपी 13 जीए 3130 एवं एमपी 04 जीबी 1864 भोपाल की ओर जा रहे थे। तभी रात्रि लगभग दो बजे के करीब अज्ञात आठ नकाबपोष लुटेरों ने ट्रकों को सड़क पर रापी लगाकर रोक लिया। उन्होंने ट्रक के चालक बवलेश लोधी निवासी देहगांव, रंजीत सिंह निवासी देहगांव, शुभम धाकड़ निवासी देहगांव, मो. सिराज निवासी बेगमगंज एवं नर्वदा प्रसाद लोधी निवासी सिरसौदा को मारपीट कर लूट लिया।

ट्रक के चालकों से लूट
लुटेरों ने गैस से भरे ट्रक के चालक मोहम्मद सिराज से 15 हजार रुपए तथा दूसरे ट्रक चालक शुभम से 11 हजार रुपए नगदी लूट लिए। इन लोगों के मोबाइल भी लुटेरों ने ले लिए। मारपीट के चलते ट्रक चालक गंभीर रूप से घायल हो गए। घायलों में रंजीत, नर्वदा प्रसाद लोधी एवं सिराज शामिल हैं। किसी तरह इन लोगों ने पुलिस को घटना की सूचना दी। घटना स्थसल गढ़ी पुलिस चौकी से महज तीन किमी की दूरी पर स्थित है, परन्तु पुलिस को कानोकान इस घटना की खबर नहीं मिली। जानकारी मिलते ही रात्रि में ही जिला पुलिस अधीक्षक मोनिका शुक्ला, एसडीओपी ओपी त्रिपाठी घटना स्थल पर पहुंचे तथा लुटेरों की तलाश के लिए जरूरी दिशा निर्देश दिए। फिलहाल पुलिस लुटेरों की तलाश में लगी हुई है।

पहले भी हो चुकीं है कई वारदातें
तहसील मुख्यालय से भोपाल की ओर 10 किमी के बाद लगभग 5 किमी में गढ़ी का जंगली क्षेत्र लग जाता है। यह क्षेत्र लंबे समय से डेंजर जोन माना जाता है। बीते कुछ वर्षों में यहां वाहन चालकों के साथ लूट की वारदातें होती रही है। अज्ञात लुटेरे रापी लगाकर और अन्य तरीके अपनाकर लंबे समय तक यहां वारदातें करते रहे हैं। बावजूद इसके इस डेंजर जोन के पास गढ़ी पुलिस चौकी में पुलिस विभाग द्वारा पर्याप्त सुरक्षा संसाधन नहीं जुटाए गए हैं।