स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

लोनिवि एसडीओ परिसर में घुसा भालू, रायपुर से पहुंची टीम, बेहोश कर पकड़ा

Ram Dayal Sao

Publish: Oct 23, 2019 01:44 AM | Updated: Oct 23, 2019 01:44 AM

Raipur

मंगलवार को सुबह नगर के कुछ लोग मॉर्निंग वॉक पर निकले थे। तभी कालीबाड़ी मंदिर की तरफ से दौड़ते हुए एक भालू आया और लोक निर्माण विभाण एसडीओ परिसर में घुस गया। लोगों ने दूर से हल्ला मचाया कि भालू परिसर में घुसा है। उसी परिसर में विभाग के कर्मचारियों का आवास भी है। भालू की सूचना पर सभी लोगों ने अपना-अपना दरवाजा बंद कर दिया।

कांकेर. लोक निर्माण विभाग एसडीओ परिसर में मंगलवार को अलसुबह भालू घुस गया। इस खबर से लोगों में हडक़ंप मचा तो आनन-फानन में वन विभाग की टीम पहुंची। इधर रायपुर से जंगल सफारी की टीम भी भालू को काबू में करने के लिए निकली। टीम सात घंटे के बाद कांकेर पहुंची। इसके बाद भालू को किसी तरह से इंजेक्शन लगाकर बेहोश किया।
जानकारी के अुनसार मंगलवार को सुबह नगर के कुछ लोग मॉर्निंग वॉक पर निकले थे। तभी कालीबाड़ी मंदिर की तरफ से दौड़ते हुए एक भालू आया और लोक निर्माण विभाण एसडीओ परिसर में घुस गया। लोगों ने दूर से हल्ला मचाया कि भालू परिसर में घुसा है। उसी परिसर में विभाग के कर्मचारियों का आवास भी है। भालू की सूचना पर सभी लोगों ने अपना-अपना दरवाजा बंद कर दिया। तत्काल इसकी सूचना वन विभाग के आलाधिकारियों को दी गई। वन विभाग की टीम हाथ में डंडा और जाली लिए एसडीओ दफ्तर पहुंच गई। आसपास पहरेदारी में लगी रही कि कोई भालू को न छेड़े अन्यथा हमला कर देगा। देखते-ही देखते लोगों की भारी भीड़ जमा होने लगी तो रायपुर जंगल सफारी को सूचना दिया गया। रायपुर से टीम दोपहर करीब 12 बजे कांकेर पहुंची। भीड़ को हटाकर भालू को बेहोशी का इंजेक्शन लगाया गया। तब जाकर वन विभाग के कर्मचारियों और अधिकारियों ने राहत की सांस ली। भालू को पिंजरा में कैद कर देर शाम नरहरपुर से आगे केशकाल घाटी में छोड़ दिया गया।
पटौद में भी भालू ने मचाया उत्पात
ग्राम पंचायत पटौद में भालू आए दिन आबादी के बीच घुस रहा है। किसी न किसी के घर में भालू रात में आ रहा है। लोगों में डर का माहौल बना हुआ है। सोमवार को तीन लोगों के घरों में भालू ने धावा बोल दिया था। रात में किचन बाड़ी में तोडफ़ोड़ किया। ग्रामीणों ने बताया कि भालू के आतंक से लोगों में डर बनी हुई है। सूरज ढलते ही अधिकांश लोगों के घरों का दरवाजे बंद हो जाते हैं। वन विभाग को सूचना देने के भी किसी प्रकार की कार्रवाई नहीं की जा रही है। ग्राम पंचायत पटौद के ग्रामीण क्षेत्र में दहशत बना हुआ है।
केस-1. उपवन परिक्षेत्र चारामा के ग्राम तारसगांव में 16 अक्टूबर को पप्पू शोरी (35) पिता मानसिंग शोरी को उसी के घर बाड़ी में भालू ने हमला कर दिया। युवक की एक आंख को फोड़ दिया। गंभीर हालत में इलाज रायपुर में चल रहा है।
केस-2- कांकेर वनमंडल के ग्राम किरगोली में 11 अक्टूबर को एक भालू ने मेहतर विश्वकर्मा (60) पिता घसिया राम पर जानलेवा हमला कर दिया था। यह हमला भालू तक किया जब वह अपने घर से सुबह से शौच के लिए निकल रहा था कि दो बच्चों के साथ मादा भालू ने नोंच लिया।
केस-3- पश्चिमी भानुप्रतापपुर वन मंडल के ग्राम उरपांजूर बडग़ांव क्षेत्र में 11 अक्टूबर को एक भालू रैजीराम नेताम (28) को जंगल में बैल चराने के दौरान हमला कर दिया। किसी तरह से लड़ कर वह जंगल में भालू से बच गया। लगातार भालू लोगों को निशाना बना रहा है।