स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

दुष्कर्म पीडि़ता के पिता ने रेप के आरोपी का दिया साथ, जानिए क्यों

Bhupesh Tripathi

Publish: Oct 25, 2019 19:22 PM | Updated: Oct 25, 2019 19:22 PM

Raipur

नाबालिग को घर में अकेला पाकर डोल गई चाचा की नियत, 11 वर्ष की मासूम से कर बैठा अनाचार .

रायपुर . छत्तीसगढ़ में बढ़ते अपराध थमने का नाम नहीं ले रहे हैं। राजधानी से करीब 50 किलोमीटर दूर स्थित दुर्ग जिले में एक ऐसी घटना घटी है जिसे जान आपका भी मन सहम जाएंगा। दुर्ग जिले के विशेष अदालत में उस समय सन्नाटा पसर गया जब 11 वर्ष की नाबालिग दुष्कर्म पीड़िता ने बताया कि मेरे मां का हत्यारा और कोई नहीं खुद मेरे पिता है और जिसकी प्रत्यक्षदर्शी वह स्वयं है।

दीपावली से पहले छत्तीसगढ़ के सीएम ने PM मोदी को लिखा पत्र, किसानों को लेकर की ये बड़ी मांग

आपको बता दें दुष्कर्म आरोपी के जमानत आवेदन का विरोध करने वाली उसकी मां की हत्या हो चुकी है। इसी साल 29 सितंबर को तकिये से पहले मां का मुंह दबाया गया, फिर कपड़े से रस्सी बनाकर उसका गला घोट दिया गया। पीड़िता ने भरी अदालत में कहा कि मेरी मां की हत्या मेरे पिता ने की है और घटना की प्रत्यक्षदर्शी वह स्वयं है।

अरब सागर व बंगाल की खाड़ी में बना तगड़ा सिस्टम, मौसम विभाग का अलर्ट, इतने दिनों तक होगी भारी बारिश

मासूम के इस बयान के बाद फास्ट ट्रैक कोर्ट की न्यायाधीश शुभ्रा पचौरी ने नाबालिग और उसके दो भाई-बहनों की जिम्मेदारी प्रशासन को देते हुए पत्र लिखा है। दरअसल पीड़िता की मां सितंबर में अपनी बेटी के साथ न्यायालय पहुंची और दुष्कर्म करने वाले आरोपी के जमानत आवेदन का विरोध किया था। बता दें कि दुष्कर्म की शिकायत पर इस मामले में खुर्सीपार पुलिस ने 2018 में एफआईआर दर्ज की थी। इसके बाद पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था और अभियोग पत्र फास्ट ट्रैक कोर्ट में प्रस्तुत किया।

परिवार से परेशान होकर युवक भागा था घर से, पुलिस ने तमिलनाडु से लाकर वापस छोड़ा घर

चाचा ने किया था नाबालिग का बलात्कार
सुने घर में नाबालिग को अकेला पाकर पीड़िता के चाचा ने ही दुष्कर्म की घटना को अंजाम दिया था। प्रकरण के अनुसार, आरोपी और पीड़िता के बीच चाचा-भतीजी का रिश्ता है। घटना के समय पीड़िता घर में अकेली थी और आरोपी ने इसका फायदा उठाया था।

पार्षद टिकट के लिए नेताओं के घरों में ड्रामा चालू, खुद तो दावेदार हैं ही, भाई और पत्नी को भी लगाया कतार में

केस वापस लेने का था दबाव
साथ ही पीडि़ता की मां ने न्यायालय में बयान दर्ज कराया था कि प्रकरण को वापस लेने के लिए उस पर लगातार दबाव बनाया जा रहा है। आरोपी पारिवारिक सदस्य है और ससुराल वाले प्रकरण को वापस नहीं लेने की वजह से नाराज थे। इस बयान के आधार पर ही न्यायालय ने आरोपी के जमानत आवेदन को निरस्त कर दिया। इसके कुछ दिनों बाद ही पीडि़ता की मां की हत्या हो गई। हत्या पीडि़ता के पिता ने की।

फर्जी नर्सिंग कॉलेज खोलकर 45 हजार में बांट रहा था MBBS, BAMS और B Pharma की डिग्री, ऐसे हुआ खुलासा

पिता ने रायपुर में की थी मां की हत्या
पीड़िता ने बताया कि मेरी मां की हत्या मेरे पिता ने रायपुर में की थी। हत्या के मामले में सरस्वती नगर थाने की पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर आरोपी को गिरफ्तार किया था। पीड़िता ने बताया कि इस घटना के बाद वह स्वयं अपने दो भाई-बहन के साथ नाना-नानी के पास रह रही हैं। नाना-नानी भीख मांगकर जीवन-यापन करते हैं। अब न तो वह और न ही उसके भाई-बहन स्कूल जाते हैं। उनके आगे-पीछे कोई नही है।

खुशखबरी: Bhilai Steel Plant में निकली बंपर भर्ती, 10वीं पास से लेकर IIT वाले कर कते है आवेदन

न्यायालय ने इन्हें दी जिम्मेदारी
कलेक्टर : दुष्कर्म पीडि़ता नाबालिग और उसके भाई-बहन को किसी अच्छे निजी स्कूल में दाखिल कराया जाए। साथ ही उसके आवास व भोजन की व्यवस्था नि:शुल्क किया जाए। पीड़िता व उसके भाई-बहन को हर माह छात्रवृत्ति दी जाए ताकि जीवनयापन में आर्थिक परेशानी न आए।

एसपी : दुष्कर्म पीड़िता व उसके भाई-बहनों की सुरक्षा व्यवस्था की जिम्मेदारी पुलिस की है। पुलिस सुरक्षा के लिए हर संभव प्रयास करे। रहन-सहन में किसी तरह की परेशानी न आए। साथ ही सुरक्षा में किसी तरह की चूक न हो।

जिला विधिक सेवा प्राधिकर : चूंकि पीड़िता अपने नाना नानी पर आश्रित है। उनकी माली हालत ठीक नहीं है। वे भिक्षावृत्ति करते हैं। इसलिए पीडि़ता को तत्काल प्रवधान के अनुरूप 1 लाख की सहायता दिलाई जाए। साथ ही समय-समय पर बच्चों की रहन-सहन की मॉनीटरिंग करें।

Sex Racket सरगना के खिलाफ लिखवाया था नाबालिग ने FIR, अब लड़की के पिता पर दुष्कर्म का मामला दर्ज

कोर्ट के आदेेश पालन होगा
आरोपी के जमानत आवेदन का विरोध करने पर नाबालिग की मां की हत्या हुई है। वह हत्या जैसे गंभीर प्रकरण की प्रत्यक्षदर्शी गवाह है। इसलिए उसकी सुरक्षा की जिम्मेदारी शासन-प्रशासन पर है। न्यायाधीश ने आदेश के मुताबिक स्थानीय अधिकारी संबंधित जिलाधीश व पुलिस अधीक्षक को पत्र के माध्यम से आदेश का पालन कराने सुनिश्चित करेंगे।

कमल वर्मा, अतिरिक्त लोक अभियोजक

[MORE_ADVERTISE1]