स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

जनभागीदारी से बने प्रदेश के पहले गौठान का लोकार्पण

Lalit Sahu

Publish: Oct 04, 2019 18:17 PM | Updated: Oct 04, 2019 18:17 PM

Raipur

इस गौठान में कम लागत में सुव्यवस्थित ढंग से ५-५ नाडेप और केंचुआ खाद टंकी का निर्माण भी किया गया है। पशुओं के पेयजल की व्यवस्था के लिए 4 कोटना तथा ५ हजार लीटर क्षमता वाली पानी टंकी से पाईप लाईन का विस्तार, नंदी चबूतरा, पैरा संग्रहण के लिए मचान के साथ ही पशुओं की छाया के लिए शेड का निर्माण किया गया है।

रायपुर। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150वीं जयंती के अवसर पर ‘गांधी विचार पदयात्रा’ में कण्डेल पहुंचे प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आज गौरव ग्राम कण्डेल में जनसहयोग से बने प्रदेश के पहले गौठान ‘गोकुलधाम गौठान’ का लोकार्पण किया। इस दौरान उन्होंने गाय की पूजा-अर्चना कर घास भी खिलाई और गौठान का निरीक्षण भी किया। मुख्यमंत्री ने गांव के लोगों द्वारा जनसहभागिता से बनाए गए गौठान की प्रशंसा की। शासन की महत्ती सुराजी गांव योजना के तहत् गांववालों ने गौठान समिति गठित कर चार एकड़ के क्षेत्र में गौठान बनाया है। गौठान बनाने गांववालों ने पांच लाख रुपए चंदा कर राशि भी जुटाई। यहां के लोगों ने श्रमदान कर अहाता निर्माण, गौठान समतलीकरण और साफ-सफाई कर गौठान में अपनी सहभागिता दी।
इस गौठान में कम लागत में सुव्यवस्थित ढंग से ५-५ नाडेप और केंचुआ खाद टंकी का निर्माण भी किया गया है। पशुओं के पेयजल की व्यवस्था के लिए 4 कोटना तथा ५ हजार लीटर क्षमता वाली पानी टंकी से पाईप लाईन का विस्तार, नंदी चबूतरा, पैरा संग्रहण के लिए मचान के साथ ही पशुओं की छाया के लिए शेड का निर्माण किया गया है। दो-दो घन मीटर की क्षमता वाले दो बायोगैस संयंत्र यहां स्थापित किए गए हैं। इसके जरिए दो चरवाहा परिवारों में गैस की सप्लाई की जा रही है। यहां पशुधन विकास विभाग द्वारा कृत्रिम गर्भाधान से उत्पादित बछड़ों की प्रदर्शनी लगाई गई है।