स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

इन्हें पहचान लें, ये हैं नीट में बैठने वाले फ्रॉड अभ्यर्थी

Prashant Gupta

Publish: Feb 14, 2020 12:10 PM | Updated: Feb 14, 2020 12:10 PM

Raipur

पत्रिका एक्सक्लूसिव-

- एमसीआई ने सभी राज्यों को लिखा पत्र-

- एनटीए ने ली थी 2019 में हुई थी नीट

- तमिलनाडू पुलिस, क्राइम ब्रांच और सीआईडी कर रही है जांच

फ्लैग- छत्तीसगढ़ समेत किसी भी राज्य में छिपे हो सकते हैं ये लड़के-लड़कियां, एमसीआई ने मांगा कॉलेजों से सहयोग

रायपुर.नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए) द्वारा नेशनल एलिजिबिलिटी कम एंट्रेस टेस्ट (नीट) 2019 का आयोजन किया गया। इसमें ही बड़े फर्जीवाड़े का खुलासा हुआ है। तमिलनाडु के मेडिकल कॉलेजों में पढऩे वाले ऐसे नौ छात्रों की पहचान हुई है, जिनकी जगह पर बाहर के लोगों ने आकर परीक्षा दी। चेन्नई क्राइम ब्रांच, सीआईडी की टीम इस प्रकरण की जांच कर रही है। सीआईडी ने नौ बाहरी लोगों की पहचान सीसीटीवी के जरिए की है, मगर मगर ये कहां के रहने वाले हैं, इसके बारे में सीआईडी के पास कोई जानकारी नहीं है।

सीआईडी ने दो लड़की और सात लड़कों की तस्वीर मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया (एमसीआई) को भेजी। एमसीआई ने तस्वीरों के साथ पत्र सभी राज्यों को लिखा है। जिसमें फर्जी अभ्यर्थियों की धरपकड़ में मदद करने की अपील की है। छत्तीसगढ़ चिकित्सा शिक्षा संचालनालय को भी यह पत्र और तस्वीरें मिली हैं, जिन्हें सभी मेडिकल कॉलेजों को भेजा गया है। ताकि कहीं से भी इन फर्जी अभ्यर्थियों के बारे में कोई क्लू मिल सके। एमसीआई सूत्रों के मुताबिक 'नीटÓ की परीक्षा में बड़ा रैकेट सक्रिय है, जो अभ्यर्थियों की जगह परीक्षा देता है।

सत्यापन करने भेजी तस्वीरें-

सीआईडी के जरिए एमसीआई द्वारा मेडिकल कॉलेजों को तस्वीरें भेजने की वजह है, इनकी पहचान करना। क्या फर्जी अभ्यर्थी किसी कॉलेज में एमबीबीएस या एमडी/एमएस की पढ़ रहे हैं या फिर कहीं ये किसी परीक्षा में शामिल हुए हैं। एमसीआई ने सभी कॉलेजों के नोटिस बोर्ड में सभी फर्जी अभ्यर्थियों की तस्वीरें लगाने के निर्देश दिए हैं, ताकि किसी भी तरह से पहचान हो सके।

यहां दे सकते हैं जानकारी- फर्जी अभ्यर्थियों के संबंध में पुलिस अधीक्षक, साउथ जोन, क्राइम ब्रांच सीआईडी, ओल्ड कमिशनरेट कैम्पस, पहथेओन रोड, ईग्मोर, चेन्नई पर जानकारी दे सकते हैं।

02 दिसंबर 2019- पुलिस अधीक्षक, क्राइम ब्रांच सीआईडी, साउथ जोन, चेन्नई द्वारा एमसीआई को पत्र लिखकर फर्जीवाडे की सूचना दी गई।

छत्तीसगढ़ की याद हुई ताजा- प्रदेश में नीट के पूर्व व्यापमं द्वारा एमबीबीएस-बीडीएस सीट के लिए प्रवेश परीक्षा ली गई। यहां के अभ्यर्थियों की जगह बाहर के लोगों ने आकर परीक्षा दी। मामला फूटा तो सीआईडी जांच के आदेश जारी कर दिए गए। सीजी-पीएमटी में 41 मुन्नाभाई के विरुद्ध सीआईडी ने आईपीसी की धारा 420 के तहत अपराध दर्ज किया। इस मामले में सभी हाईकोर्ट से अग्रिम जमानत पर हैं। एक-दो को छोड़कर सभी पास-आउट हो चुके हैं।

एमसीआई से पत्र प्राप्त हुआ है। जिसमें नीट में बैठने वाले अभ्यथिर्यों की फोटो है। सभी कॉलेजों को पत्र और फोटो पहचान के लिए भेज दी गई हैं।

डॉ. एसएल अदिले, संचालक, चिकित्सा शिक्षा

[MORE_ADVERTISE1]