स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

आरक्षण पर सियासत हुई तेज, भाजपा ने कहा- कांग्रेस कर रही है राजनीति

Karunakant Chaubey

Publish: Aug 19, 2019 19:57 PM | Updated: Aug 19, 2019 19:57 PM

Raipur

Cast Reservation : भूपेश बघेल द्वारा अनुसूचित और पिछड़ी जातियों का आरक्षण कोटा बढाए जाने की बात कही थी। उसके बाद से छत्तीसगढ़ की राजनीति गर्मायी हुई है। केंद्र में भी मोहन भगवत (Mohan Bhagwat) के बयान के बाद विपक्षी पार्टियों ने भाजपा पर निशाना साधा है

रायपुर. Cast Reservation : पन्दरह अगस्त को भूपेश बघेल द्वारा अनुसूचित और पिछड़ी जातियों का आरक्षण कोटा बढाए जाने की बात कही थी। उसके बाद से छत्तीसगढ़ की राजनीति गर्मायी हुई है।केंद्र में भी मोहन भगवत (Mohan Bhagwat) के आरक्षण पर दिए गए बयान के बाद विपक्ष ने भाजपा पर तीखा प्रहार किया है।

कांग्रेस पर आरक्षण की राजनीति करने का आरोप

भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता ने कहा की कांग्रेस आरक्षण की राजनीति कर रही है। आरक्षण की घोषणा करने से पहले सरकार को रोजगार को बढ़ावा देना चाहिए था। बिना रोजगार के दिया गया आरक्षण किस काम का है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने 15 अगस्त को आरक्षण को लेकर नई घोषणा तो कर दी, लेकिन प्रदेश में 2200 से ज्यादा पुलिस पदों पर होने वाली भर्ती को सरकार ने रद्द कर दिया और उसके बदले केवल 814 पदों पर ही भर्ती करने के आदेश दिए हैं। पुलिस विभाग की भर्ती रद्द किए जाने की बात को लेकर वो आने वाले समय में आंदोलन भी करेंगे।

जब हौसला बना लिया ऊंची उड़ान का,फिर देखना फिजूल है कद आसमान का, कुछ ऐसा ही जज्बा...

कांग्रेस कर रही आउटसोर्सिंग रोकने का प्रयास

भाजपा के सवालों के जवाब में कांग्रेस के नगरीय प्रशासन मंत्री शिवकुमार डहरिया ने कहा कि राज्य सरकार ने 15 हजार शिक्षकों की भर्ती निकाली है और इसके साथ ही 814 पदों पर पुलिस भर्ती के लिए भी प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। इसके अलावा आने वाले समय में पुलिस में और भी भर्ती की जाएगी। उन्होंने कहा कि कांग्रेस सरकार प्रदेश में आउटसोर्सिंग रोकने के लिए प्रयास कर रही है।

Yellow Alert : छत्तीसगढ़ के इन जिलों में फिर होगी आफत वाली बारिश, मौसम विभाग ने जारी की चेतवानी

mayawati

केंद्र में भी गर्मायी राजनीति

मोहन भावत (Mohan Bhagwat) के आरक्षण को लेकर दिए गए बयान के बाद केंद्र की राजनीति भी गरमा गयी है। उन्होंने एक कार्यक्रम में कहा कि जो आरक्षण के पक्ष में हैं और जो इसके खिलाफ हैं, उन्हें सौहार्दपूर्ण वातावरण में इस पर विमर्श करना चाहिए। भागवत के इस बयान को लेकर विपक्ष ने आरएसएस (RSS) के साथ भाजपा पर भी तीखा हमला बोला है।

CRPF के जवानो ने पेश की मावता की मिसाल

एक तरफ जहां कांग्रेस ने इसे दलितों और पिछड़ों का आरक्षण खत्म करने का एजेंडा बताया, वहीं बसपा सुप्रीमो मायावती ने कहा कि आरक्षण मानवतावादी संवैधानिक व्यवस्था है जिससे छेड़छाड़ अनुचित और अन्याय है। मायावती ने दो टूक कहा कि आरएसएस को अपनी आरक्षण विरोधी मानसिकता त्याग देनी चाहिए।

भारत में आरक्षण की वर्तमान स्थिति

भारत में फिलहाल अनुसूचित जाति को 15 फीसदी, अनुसूचित जनजाति को 7.5 फीसदी, ओबीसी यानी पिछड़ी जातियों के लिए 27 फीसदी और गरीब सवर्णों को 10 फीसदी आरक्षण मिल रहा है. बाकी बची 40.5 फीसदी नौकरियां सामान्य जातियों के लिए हैं।

Read Also : खाकी हुई शर्मशार : जिनके हवाले दरख्तों की हिफाजत थी, वही जंगल के सौदागर निकले