स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

VIDEO : शार्ट कट से नहीं मिलती प्रसिद्धी : फरहान साबरी

Vasudev Yadav

Publish: Sep 12, 2019 12:51 PM | Updated: Sep 12, 2019 12:52 PM

Raigarh

Sufi singer press conference : फरहान साबरी चक्रधर समारोह में कार्यक्रम प्रस्तुत करने यहां पहुंचे थे। इस बीच उनकी प्रेसवार्ता आयोजित की गई। प्रेसवार्ता के दौरान उनका कहना था कि उन्हें गायकी विरासत में मिली है।

रायगढ़. शार्ट कट से प्रसिद्धी नहीं मिलती और यदि प्रसिद्धी मिल भी जाती है तो यह ज्यादा दिनों तक नहीं टिकती। आज कल के युवा संगीत में इसी तरह से कार्य कर रहे हैं, जबकि संगीत के लिए ईमानदारी से मेहनत, लगन और समर्पण का भाव होना चाहिए, जो आजकल के युवाओं में शून्य है।

READ MORE : अधिवक्ता संघ के पूर्व जिला अध्यक्ष को कोर्ट ने भेजा जेल

यह कहना है कि सूफी गायक फरहान साबरी का। फरहान साबरी चक्रधर समारोह में कार्यक्रम प्रस्तुत करने यहां पहुंचे थे। इस बीच उनकी प्रेसवार्ता आयोजित की गई। प्रेसवार्ता के दौरान उनका कहना था कि उन्हें गायकी विरासत में मिली है। उनके दादा और पिता के साथ वह गायकी के गुर सिखते थे। उनका कहना था कि ग्रामीण क्षेत्र से महानगर तक प्रतिभा की कमी नहीं है। लोगों ने इस प्रतिभा का उपयोग करना चाहिए।

READ MORE : ऑटो हटाने की बात पर चालक ने अपने परिजनों के साथ मिल कर प्राचार्य की कर दी पिटाई

पुराने गानों को लेकर पूछे गए एक सवाल पर उनका कहना था कि पुराने गानों में शास्त्रीय संगीत का समावेश है। यही वजह है कि आज भी लोग पुराने से पुराने गाने गुनगुनाते हुए सुकून महसूस करते हैं। वहीं उन्होंने बताया कि वर्ष २०१२ में सारेगामापा से बाहर हो गए थे। इस प्रतियोगिता से बाहर होने के बाद कुछ कर गुजरने का जुनून आया। इसी जुनून ने उन्हें नया मुकाम दिया। कश्मीर को लेकर पूछे गए सवाल पर उनका कहना था कि हिन्दुस्तान में ही जन्नत है।