स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

क्यों भागा था मजदूर, इधर उसे ढूंढने जंगलों की खाक छान रही थी पुलिस

Vasudev Yadav

Publish: Aug 08, 2019 20:20 PM | Updated: Aug 08, 2019 20:20 PM

Raigarh

Labourer Missing : खुद से लापता हुए मजदूर को खोजने पुलिस ने एक किए दिन-रात, 18 दिन बाद मजदूर लौटा घर को पुलिस ने धर दबोचा

रायगढ़. खुद से लापता मजदूर को खोजने में चक्रधर नगर पुलिस ने दिन-रात एक कर दिया था। आखिरकार १८ दिन बाद जब मजदूर घर लौटा तो पुलिस ने उसे धर दबोचा। पुलिस की पूछताछ में मजदूर ने बताया कि उसने गांव में ब्याज में रुपए लिया था, जिसे चुका नहीं पा रहा था। ऐसे में कमाने के लिए वह बिलासपुर चला गया था। फिलहाल पुलिस का कहना है कि कागजी कार्रवाई पूरी हो जाने के बाद मजदूर को उसके परिजनों के सुपुर्द कर दिया जाएगा।
पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार मनोरंजन प्रधान पिता ललित प्रधान (30) रामपुरा बेहरामुंडा, थाना हिमगीर जिला सुंदरगढ़ ओडिशा 11 जुलाई से जामगांव स्थित एमएसपी प्लांट के आरएमएस में ठेकेदार के अंदर मजदूरी के काम में लगा था। 21 जुलाई को वह काम करने प्लांट गया था, जहां से शाम चार बजे अचानक लापता हो गया। इसके दो दिन बाद मनोरंजन की पत्नी ने चक्रधर नगर थाने में शिकायत की थी। जहां पुलिस गुम इंसान दर्ज कर मामले की विवेचना कर रही थी। वहीं 25 जुलाई की रात मजदूर के परिजनों और ग्रामीणों ने कंपनी प्रबंधन पर मनोरंजन को लापता कराने और उसकी जान लेने का आरोप लगाते हुए प्लांट का घेराव कर दिया था। जबकि कंपनी प्रबंधन, ठेकेदार व लापता युवक के परिजनों से लगातार पूछताछ करने के बाद कोई क्लू नहीं मिल रहा था। पुलिस को कंपनी के गेट में लगे सीसीटीवी फुटेज में मनोरंजन कंपनी के अंदर प्रवेश करते दिख रहा था, लेकिन बाहर आते वह नहीं दिखा। ऐसे में मामला काफी हाईप्रोफाइल हो गया था कि आखिर मनोरंजन कंपनी के अंदर से लापता कैसे हुआ। ऐसे में यह बात डीजीपी तक पहुंची और डीजीपी ने एसपी और एसपी ने चक्रधर नगर टीआई युवराज तिवारी को मनोरंजन को जल्द से जल्द खोजने का आदेश दिया था। जिस पर पुलिस ने कंपनी के अंदर, आसपास के गांवों व जंगलों तक की खाक छान ली, लेकिन लापता युवक का कहीं पता नहीं चला। इसी बीच 7 अगस्त की रात पुलिस को सूचना मिली कि मजदूर घर लौट आया है। ऐसे में बिना देरी किए पुलिस तत्काल उसके गांव पहुंची और उसे पकड़ कर थाने ले आई। जहां कागजी प्रक्रिया पूरी करने के बाद मनोरंजन को उसके परिजनों के सुपर्द करने की बात कही जा रही है।

मनोरंजन ने बताया अपने लापता होने की कहानी
मनोरंजन से जब उसके लापता होने के बारे में पूछा गया तो उसने बताया कि उसने गांव में किसी व्यक्ति से ब्याज में कर्ज ले रखा है। जिसको वह चुका नहीं पा रहा था। साथ ही उसे गांव में रहने का भी मन नहीं लग रहा था। इसलिए वह 21 जुलाई को नाले के रास्ते से प्लांट से बाहर निकला और पैदल-पैदल कोतरलिया जामगांव रेलवे स्टेशन पहुंच गया। जहां रातभर प्लेटफार्म में रूकने के बाद सुबह की ट्रेन से वह बिलासपुर पहुंच गया। इसके बाद वहां एक चाय-नाश्ता के होटल में पानी लगाने, प्लेट धोने का काम करने लगा। वहां 15 दिन काम करने के बाद मनोरंजन 6 अगस्त को ट्रेन से झारसुगुड़ा आ गया। रातभर प्लेटफार्म में गुजारने के बाद ७ अगस्त की शाम सात बजे जैसे ही वह अपने घर पहुंचा पुलिस ने उसे पकड़ लिया।

गर्भवती पत्नी को भी नहीं दी जानकारी
अपने बिलासपुर जाने के बारे में मनोरंजन ने अपनी गर्भवती पत्नी को भी नहीं बताया था। ऐसे में पीडि़त महिला इस स्थिति में भी अपने पति को पाने दर-दर की ठोकर खा रही थी। अपने पति का रास्ता देखते उसकी आंखें थक गई थी। हालांकि अब उसका पति लौट आया है, जिसे जल्द ही पुलिस उसके हवाले कर देगी।