स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

भाजपा पार्षद ने लगाया सभापति पर आरोप, कहा- कमाई करने के लिए हो रही है सामान्य सभा की बैठक, देखिए वीडियो...

Vasudev Yadav

Publish: Nov 15, 2019 16:25 PM | Updated: Nov 15, 2019 16:25 PM

Raigarh

General assembly meeting: नगर निगम में शुक्रवार को सामान्य सभा की बैठक (General assembly meeting) आयोजित की गई थी। यह बैठक इस कार्यकाल की अंतिम बैठक है। अंतिम बैठक में भी तीखी नोकझोंक हुई।

रायगढ़. सामान्य सभा की बैठक में भाजपा के पार्षद दीपेश सोलंकी ने पूरे सदन के सामने सभापति पर यह आरोप लगाया कि इस बैठक को कमाई के लिए किया जा रहा है। उन्होंने अपने इस आरोप में यह तर्क दिया कि सामान्य सभा की इस विशेष बैठक में विशेष मुद्दों को शामिल किया जाना था लेकिन अधिकांश मुद्दे दुकान नामांतरण दुकान आवंटन के ही प्रस्ताव है, जिसमें निगम के द्वारा कमाई ही की जाएगी। वहीं उन्होंने पांच करोड़ के स्वीकृत हुए विकास कार्यों पर सवाल जवाब किया।

पांच करोड़ के इस्तेमाल को लेकर पार्षद लंबे समय तक खड़े रहे उनका कहना था कि पांच करोड़ का हिसाब दे दिया जाए। 21 वार्डों में कितने-कितने के विकास कार्य स्वीकृत हुए। यदि वे जवाब नहीं देते हैं तो उन्हें स्पष्ट कह दिया जाए कि वह बाहर चले जाएं वे सहर्ष स्वीकार करते हुए सदन से बाहर चले जाएंगे। पांच करोड रुपए के विकास कार्यों का हिसाब नहीं आने तक सभा को आगे नहीं बढऩे की मांग भी की।

Read More: सिंघल स्टील के फर्नेस में ब्लास्ट, क्रेन ऑपरेटर की मौत, एक श्रमिक झुलसा

इसके अलावा भाजपा पार्षद लक्ष्मण ने भी आरोप लगाया कि उनके वार्ड में एक लाख तक के विकास कार्य नहीं कराया गया। जबकि उनके द्वारा पूर्व में कई आवेदन भी निगम अधिकारियों को सौंपा जा चुका था इसके बाद भी भेदभाव किया।

[MORE_ADVERTISE1]भाजपा पार्षद ने लगाया सभापति पर आरोप, कहा- कमाई करने के लिए हो रही है सामान्य सभा की बैठक[MORE_ADVERTISE2]

अधिकारी चलाते रहे कार्यकाल
सामान्य सभा में बैठक के दौरान एमआईसी सदस्य रामकृष्ण सचिव जी का यह आरोप था कि इस पूरे कार्यकाल को अधिकारियों ने ही संचालित किया। नगर निगम एक्ट के तहत पार्षदों द्वारा पूछे गए सवालों का जवाब एमआईसी सदस्यों को देना होता है, लेकिन अधिकारियों द्वारा उन्हें किसी प्रकार से ना तो जानकारी दी गई और ना ही उनके द्वारा सुझाए गए विकास कार्यों को पूरा किया गया। इसके बाद भी पांच साल तक उन्होंने अपने स्तर से प्रयास किया ताकि शहर का विकास हो।

[MORE_ADVERTISE3]