स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

रायबरेली में भारत छोड़ो आंदोलन 78वी वर्षगांठ पर जयहिंद युवा सेना ने यूनिटी फार रन का किया गया आयोजन

Madhav Singh

Publish: Aug 18, 2019 22:44 PM | Updated: Aug 18, 2019 22:44 PM

Raebareli

रायबरेली में भारत छोड़ो आंदोलन 78वी वर्षगांठ पर जयहिंद युवा सेना ने यूनिटी फार रन का किया गया आयोजन

रायबरेली . देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से प्रभावित होकर रायबरेली के सरेनी में भारत छोड़ो आंदोलन 78वी वर्षगांठ पर प्रधानमंत्री के मिशन एक भारत श्रेष्ठ भारत से सरेनी क्षेत्र के युवा लोग प्रभावित होकर जयहिंद युवा सेना के संस्थापक ने यूनिटी फार रन का आयोजन किया। सुबेदार (रि) पवन सिंह जो कि इसके संस्थापक ने जयहिंद युवा सेना ने भारत छोड़ो आंदोलन में 18 अगस्त 1942 सरेनी गोली काण्ड के शहीदों श्रद्धांजलि देने और प्रधानमंत्री मोदी के मिशन एक भारत श्रेष्ठ भारत से प्रभावित होकर यूनिटी फार का आयोजन की शुरुआत की जा चुकी है।

रायबरेली में भारत छोड़ो आंदोलन 78वी वर्षगांठ पर जयहिंद युवा सेना ने यूनिटी फार रन का किया गया आयोजन

 

यूनिटी फार रन की शुरूआत केएस सिंह, पूर्व आइएएस और डॉ महादेव सिंह भूगोलवेत्ता, सचिव पंचवटी ने हरी झंडी दिखाकर ‌‌जयहिंद युवा सेना के युवाओं को रवाना किया इसकी शुरुआत शहीद के गांव गौतमन खेरा से आजाद नगर, दलगंजन का पुरवा, हिम्मतपुर, चिंना का पुरवा, गड़राही, बरुवा बाग, रमईपुर, धनपाल पुर, दानापुर सरेनी तक 8 किमी का रास्ता तय किया।इसके बाद शहीदों को सभी ने पुष्प अर्पित किया साथ ही श्रद्धांजलि वहां मौजूद अशोक कुमार सिंह रामपुर, अभितेंदर सिंह और लोगों द्धारा माल्यार्पण कर सूबेदार (रि) पवन सिंह संस्थापक जयहिंद युवा सेना के सम्मान के साथ साथ सभी धावकों का सम्मान किया गया। इस पूरे कार्यक्रम में मौजूद एस सिंह, पूर्व आइएएस, डॉ महादेव सिंह भूगोलवेत्ता, सचिव पंचवटी, कामेंद्र सिंह प्रभारी जन सत्ता दल लालगंज, कैप्टन सिंह, सुबेदार मेजर राम सिंह, सूबेदार राम सरन प्रधान हसनापुर सहित भारी संख्या में जयहिंद युवा सेना लड़को और लड़कियों ने बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया और पहली बार ऐसे आयोजन से युवा उत्साहित दिखे। साथ ही सूबेदार (रि) पवन सिंह ने युवाओं को अपने संदेश में एक भारत श्रेष्ठ भारत का मंत्र दिया और बताया कि धर्म जाति मज़हब देश से ऊपर है देश ही सर्वोपरि है अगर देश है तो धर्म जाति और मजहब है आओ सब मिलकर एक भारत श्रेष्ठ भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाने की कोशिश करें।