स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

रायबरेली में एम्स के लिए 45 किसान देंगे अपनी भूमि

Karishma Lalwani

Publish: Aug 08, 2019 17:16 PM | Updated: Aug 08, 2019 17:16 PM

Raebareli

- 45 किसान एम्स के विस्तार के लिए देंगे अपनी जमीन

- जमीन के बदले राज्य सरकार से मिलेगा मुआवजा

रायबरेली. अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) का विस्तार 45 किसानों की भूमि के जरिये किया जाएगा। दरियापुर के 45 किसानों की 49.85 एकड़ भूमि का अधिग्रहण एम्स के लिए किया जाएगा। इसके एवज में किसानों को भूमि के वर्तमान डीएम सर्किल रेट का चार गुना दाम मुआवजे के रूप में राज्य सरकार की ओर से दिया जाएगा।

जमीन के बदले किसानों ने मांगी नौकरी

वर्तमान में एम्स के पास 92.43 एकड़ जमीन उपलब्ध है। इस पर एम्स के भवन बनाए गए हैं। बंद पड़ी नंदगंज सिहोरी शुगर मिल दरियापुर की यह जमीन राज्य सरकार ने एम्स को ट्रांसफर की थी। इस जमीन पर बने एम्स का सरकार विस्तार करना चाहती है। जमीन दिए जाने के लिए किसानों की मांग थी कि उनके परिवार के एक सदस्य को जमीन के बदले नौकरी दी जाए। नौकरी के मुद्दे पर एम्स के अफसरों ने हाथ खड़े कर दिए। उन्होंने कहा कि इस तरह का कोई भी प्रावधना उनके यहां नहीं है। लेकिन किसानों को आश्वासन दिया कि भूमि के एवज में किसानों को भरपूर मुआवजा मिलेगा।

शुगर मिल से एम्स को मिली भूमि पर मिल के कई भवन हैं। उनके ध्वस्तीकरण का आदेश पहले ही मिल गया था। शासन का निर्देश था कि इसे ढहाने का काम लोक निर्माण विभाग का प्रांतीय खंड करेगा। यह काम एक महीने पहले ही पूरा कर लिया जाना था, लेकिन ध्वस्तीकरण का काम समय से पूरा न किए जाने पर डीएम नेहा शर्मा ने शासन को संबंधित लोगों के खिलाफ पत्र लिखने की बात कही।

ये भी पढ़ें: उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता की हालत गंभीर, ब्लड प्रेशर कंट्रोल किए जाने का प्रयास