स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

लबालब हुए जलाशय तो बाहर आने लगे मगरमच्छ

Devi Shankar Suthar

Publish: Sep 11, 2019 16:11 PM | Updated: Sep 11, 2019 16:11 PM

Pratapgarh


जिले में इस वर्ष अतिवृष्टि के बाद जहां एक तरफ जलाशय लबालब हो गए है। वहीं दूसरी ओर बांधों में से मगरमच्छ बाहर आने लगे है। आबादी क्षेत्र में मगरमच्छ दिखने से ग्रामीणों में भय का माहौल है।


जिले में रोजाना पानी से बाहर निकल रहे
ग्रामीणों में भय का माहौल
प्रतापगढ़
जिले में इस वर्ष अतिवृष्टि के बाद जहां एक तरफ जलाशय लबालब हो गए है। वहीं दूसरी ओर बांधों में से मगरमच्छ बाहर आने लगे है। आबादी क्षेत्र में मगरमच्छ दिखने से ग्रामीणों में भय का माहौल है। ऐसे में वन विभाग भी सावचेत हो गया है। विभाग ने ग्रामीणों को इस प्रकार की सूचना तत्काल ही विभागीय कर्मचारियों को देने की अपील की है।
इस वर्ष अतिवृष्टि के बाद बांध लबालब हो गए है। जिससे विशेषकर जाखम बांध और इसके भराव क्षेत्र का एरिया काफी बढ़ गया है। जिससे यहां के मगरमच्छ दूर तक जाने लगे है। कई बार मगरमच्छ पानी से बाहर निकलकर खेतों में भी दिखने लगे है। गत दिनों से जिले में कई स्थानों पर मगरमच्छ दिखने से ग्रामीणों में भय है।
मेरियाखेड़ी एनिकट में दिखे दो मगरमच्छ
निकटवर्ती नदी में बने एनिकट में मंगलवार सुबह दो मगरमच्छ दिखे। इसकी सूचना पर पर कई ग्रामीण भी वहां पहुंच गए। जहां एनिकट के भराव इलाके में टूटे कुएं की पाल पर दो मगरमच्छ देखे गए। ग्रामीणों ने बताया कि पिछले एक महीने से नदी में मगरमच्छ विचरण कर रहे है। जिससे ग्रामीण भयभीत है। नदी के आस-पास गांव व मकान है। ऐसे में यहां के लोगों में भय है। इसके साथ ही ग्रामीणों को अपने मवेशियों की भी चिंता सता रही है। इससे नदी के किनारे पर विशेष सावधानी रखनी पड़ती है। वहीं दूसरी ओर ग्रामीणों ने बताया कि हाल ही में दो श्वानों को भी मगरमच्छ ने शिकार बना लिया है। जिससे ग्रामीणों में और भी भय है।
जमलावदा के ग्रामीणों में भय
छोटीसादड़ी के जमलावदा गांव की तलाई में गत दिनों देखे गए एक मगरमच्छ के कारण ग्रामीणों में भय है। यहां गत सप्ताह एक मगरमच्छ तलाई में आ गया था। इस पर ग्रामीणों ने इसकी सूचना वन विभाग को दी। इस पर कर्मचारी मौके पर पहुंचे। ग्रामीणों को सावचेत रहने की सलाह दी है। लेकिन ग्रामीणों को अभी भी तलाई में मगरमच्छ दिखाई दे रहा है।

बाइट
सुबोधकुमार राजपूत
सहायक वन संरक्षक, प्रतापगढ़