हरियाणा के चुनावी रण में नहीं चला मोदी मैजिक! आखिरी दो रैलियों में नहीं मिली जीत

Amit Kumar Bajpai

Publish: Oct 25, 2019 16:46 PM | Updated: Oct 25, 2019 21:00 PM

Political

  • पीएम मोदी ने आखिरी वक्त में कीं दो अतिरिक्त रैलियां।
  • इन दोनों ही सीटों पर भाजपा के प्रत्याशियों को मिली हार।
  • हरियाणा में किसी भी पार्टी को नहीं मिल सका है बहुमत।

नई दिल्ली। हरियाणा के सियासी रण में पीएम मोदी का मैजिक भी भारतीय जनता पार्टी के लिए कारगर साबित नहीं हुआ। आलम यह है कि पीएम मोदी की आखिरी दो रैलियों वाली विधानसभा सीटों पर भाजपा को शिकस्त का सामना करना पड़ा।

बड़ी खबरः नासा को पीछे छोड़ चंद्रयान 2 ने हासिल कर ली बड़ी सफलता, चांद की सतह पर मिल गई कामयाबी..

दरअसल, विधानसभा चुनाव प्रचार के दौरान हरियाणा में आखिरी समय बदलीं परिस्थितियों को देख भाजपा ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की दो रैलियां बढ़ा दी थीं। हालांकि इन दोनों ही स्थानों के भाजपा प्रत्याशियों की हार हुई।

ब्रेकिंगः सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को खड़ा किया कठघरे में.... पूछा जम्मू-कश्मीर को लेकर यह बड़ा सवाल, जवाब में...

पीएम मोदी ने प्रचार के आखिरी दिन 19 अक्टूबर को ऐलनाबाद और रेवाड़ी में अतिरिक्त रैलियां की थीं। दोनों जगहों पर भाजपा प्रत्याशियों की हार हुई।

[MORE_ADVERTISE1] [MORE_ADVERTISE2]

रेवाड़ी में भाजपा प्रत्याशी सुनील मूसेपुर को कांग्रेस प्रत्याशी चिरंजीव राव से हार का सामना करना पड़ा। वहीं, ऐलनाबाद में इंडियन नेशनल लोकदल (इनेलो) नेता अभय चौटाला ने 11 हजार से ज्यादा वोटों से भाजपा प्रत्याशी पवन बेनीवाल को हराया।

#Breaking: वायु सेना के ये दो खतरनाक मिसाइलें दागते ही, पाकिस्तान के होश आए ठिकाने, यहां पर किया..

गोहाना में भी मोदी की सभा भाजपा का बेड़ा पार नहीं कर सकी और यहां से कांग्रेस ने जीत का परचम फहराया।

बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हरियाणा में 14 अक्टूबर से रैलियों की शुरुआत की थी। उन्होंने पहली रैली बल्लभगढ़ में की थी। बल्लभगढ़, कुरुक्षेत्र और हिसार में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैलियां जरूर भाजपा के लिए फायदेमंद रहीं।

[MORE_ADVERTISE3]

गौरतलब है कि हरियाणा विधानसभा चुनाव के नतीजे बृहस्पतिवार शाम को आ गए। इनमें किसी भी पार्टी को बहुमत का जादुई आंकड़ा नसीब नहीं हुआ है। हालांकि भाजपा राज्य की 90 विधानसभा सीटों में 40 हासिल करके सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी है।

चंद्रयान-2: ऑर्बिटर ने किया एक और कमाल, हर सैटेलाइट को पीछे कर हासिल की सफलता

फिर भी भाजपा को सरकार बनाने के लिए 6 विधायक चाहिए। बृहस्पतिवार रात ही यहां जीते कुल 9 निर्दलीय विधायकों में से 8 ने भाजपा को बिना किसी शर्त अपना समर्थन देने की घोषणा कर दी।

वहीं, अभी 10 सीटें जीतने वाली जननायक जनता पार्टी (जेजेपी) के नेता दुष्यंत चौटाला ने घोषणा की है कि जो पार्टी उनके घोषणा पत्र की मांगों को मानेगी, वह उनको अपना समर्थन देंगे।