स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

अनुच्छेद 370 के मामले पर कृपाशंकर सिंह ने छोड़ी कांग्रेस, बीजेपी में हो सकते हैं शामिल

Kaushlendra Pathak

Publish: Sep 11, 2019 17:31 PM | Updated: Sep 11, 2019 17:31 PM

Political

  • महाराष्ट्र: पूर्व मंत्री कृपाशंकर सिंह ने कांग्रेस से दिया इस्तीफा
  • अनुच्छेद 370 पर कांग्रेस के स्टैंड से थे नाराज

नई दिल्ली। महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव से पहले सियासी घमासान मचा हुआ है। दल-बदल और गठबंधन की राजनीति चरम पर पहुंच गई है। आलम ये है कि हर दिन कोई न कोई नेता पार्टी बदल रहा है। इसी कड़ी में कांग्रेस को एक और बड़ा झटका लगा है। जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने पर कांग्रेस के रुख का विरोध करते हुए कृपाशंकर सिंह ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया है। वहीं, अब खबर यह आ रही है कि कृपाशंकर जल्द ही बीजेपी का दामन थाम सकते हैं।

वरिष्ठ नेता कृपाशंकर सिंह ने एक मीडिया हाउस को दिए इंटरव्यू में कहा कि आर्टिकल 370 पर संसद के दोनों सदनों में चली बहस के बाद से ही वह अपनी पार्टी के रुख से आहत हैं। जिस मुद्दे पर देश की आम जनता एकजुट होकर सरकार के साथ खड़ी दिखाई दे रही है, उसी मुद्दे पर कांग्रेस नेताओं का नासमझी भरा बयान समझ से परे है।

कांग्रेस के इसी रुख से आहत होकर राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी को पत्र भेजकर पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है। हालांकि, उन्होंने आगे की योजना के बारे में कोई खुलासा नहीं किया है। लेकिन, माना जा रहा है कि वह जल्द ही बीजेपी में शामिल हो सकते हैं।

पढ़ें- महाराष्ट्र: NCP से अलग हुए पूर्व मंत्री जाधव, 13 सितंबर को शिवसेना में होंगे शामिल

congress.jpg

गौरतलब है कि विलासराव सरकार में गृह राज्यमंत्री रह चुके कृपाशंकर सिंह मुंबई कांग्रेस के अध्यक्ष भी रह चुके हैं। वह मूलत: उत्तर प्रदेश के जौनपुर जनपद के रहने वाले हैं। पिछला विधानसभा चुनाव हारने के बाद से ही वह पार्टी में उपेक्षित महसूस कर रहे थे।

पढ़ें- मुंबई: एक्ट्रेस उर्मिला मातोंडकर ने छोड़ी कांग्रेस, लगाया पार्टी में गुटबाजी का आरोप

यहां आपको बता दें कि लोकसभा चुनाव के बाद से अब तक कई कांग्रेसी नेता पार्टी छोड़ चुके हैं। इतना ही नहीं दो दिन पहले ही बॉलीवुड अभिनेत्री उर्मिला मातोंडकर ने पार्टी के अंदर गुटबाजी का आरोप लगाते हुए इस्तीफा दे दिया था। अब देखना यह है कि विधानसभा चुनाव से पहले महाराष्ट्र की राजनीति किस करवट बैठती है।