स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

कर्नाटक में फोन टैपिंग मामले पर सीएम येदियुरप्पा बोले- सीबीआई को सौंपी जाएगी जांच

Dhiraj Kumar Sharma

Publish: Aug 18, 2019 12:07 PM | Updated: Aug 18, 2019 20:32 PM

Political

  • Karnataka CM BS Yeddyurappa का बड़ा बयान
  • Phone Tapping Case की जांच CBI को सौपी जाएगी
  • प्रदेश के 300 नेताओं के फोन टैपिंग का मामला

नई दिल्ली। कर्नाटक ( Karnataka Politics ) में बीजेपी सरकार के आने के बाद लगातार फोन टैपिंग का मामला गर्माया हुआ है। इस मुद्दे को लेकर सीएम बीएस येदियुरप्पा ( CM BS Yeddyurappa ) ने कहा है कि पिछली सरकार के दौरान हुए फोन टैपिंग केस को अब केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो यानी CBI को सौंपा जाएगा। दरअसल कांग्रेस विधायक दल के नेता समेत कई नेताओं ने इस मामले की जांच कराए जाने की मांग की थी।

इसके साथ ही सीएम येदियुरप्पा ने कहा कि 20 अगस्त को मंत्रिमंडल का विस्तार किया जाएगा।

उन्होंने साफ कहा कि विधायक दल की बैठक नहीं होगी।

आपको बता दें कि बीजेपी नेता एस. प्रकाश ने एचडी कुमारस्वामी की पिछली सरकार पर फोन टैपिंग कराने का आरोप लगाया।
अरुण जेटली की सेहत में नहीं हो रहा सुधार, अब इस चीज का लिया जा रहा सहारा

300 से ज्यादा नेताओं के फोन हुए टेप
कर्नाटक में फोन टैपिंग का मुद्दा पिछले पांच दिनों से जोर पकड़ रहा है। जेडीएस के पूर्व नेता एएच विश्वनाथ ने पूर्व की जेडीएस-कांग्रेस गठबंधन सरकार पर प्रदेश के नेताओं के फोन टैपिंग और जासूसी का आरोप लगाया है।

पार्टी से बगावत के पहले विश्वनाथ जेडीएस के प्रदेश प्रमुख थे। लेकिन बगावत के बाद उन्हें अयोग्य घोषित कर दिया गया।

एक तरफ जहां प्रदेश में जेडीएस-कांग्रेस गठबंधन सरकार पर जासूसी के आरोप लग रहे हैं वहीं दूसरी तरफ पूर्व सीएम एचडी कुमारस्वामी अपने ऊपर लगे सभी आरोपों को बेबुनियाद बता रहे हैं।

कुमारस्वामी ने ट्वीट के जरिये साफ किया कि - 'मैंने सबसे पहले कहा था कि मुख्यमंत्री का पद स्थायी नहीं होता।

मुझे सत्ता में रहने के लिए फोन टैप कराने की कोई जरूरत नहीं थी। मेरे खिलाफ लगाए गए सभी आरोप झूठे हैं।'