स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

शीला ​दीक्षित के बाद अब ​दिल्ली की सियासत को दूसरा झटका, भाजपा पूर्व प्रदेश अध्यक्ष मांगे राम का निधन

Mohit sharma

Publish: Jul 21, 2019 09:25 AM | Updated: Jul 21, 2019 15:30 PM

Political

  • Former BJP Delhi President Mange Ram Garg का निधन
  • चल रहे थे वरिष्ठ संघ सहयोगी मांगे राम लंबे समय से बीमार
  • Mange Ram ने 2003 में दिल्ली में पहली बार विधायक बने थे

नई दिल्ली। 24 घंटे के भीतर दिल्ली की राजनीति को दूसरा झटका लगा है। दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस की वरिष्ठ नेता शीला दीक्षित ( Sheila Dixit ) के निधन के बाद अब भाजपा के लिए भी बुरी खबर आई है। रविवार को दिल्ली भाजपा के पूर्व अध्यक्ष मांगे राम गर्ग ( Former BJP Delhi President Mange Ram Garg ) का निधन हो गया है।

 

पूर्व विधायक और वरिष्ठ संघ सहयोगी मांगे राम ( Former BJP Delhi President Mange Ram ) लंबे समय से बीमार चल रहे थे। नॉर्थ दिल्ली के एक्शन बालाजी अस्पताल में उनका इलाज चल रहा था। जहां उन्होंने रविवार सुबह अंतिम सांस ली।

शीला दीक्षित: राजकीय सम्‍मान के साथ आज दी जाएगी अंतिम विदाई, कांग्रेस मुख्यालय पर झंडा झुका

 

 

पेशे से हलवाई रहे मांगे राम ( Former BJP Delhi President Mange Ram ) ने 2003 में दिल्ली के विधानसभा चुनाव में पहली बार विधायक बने थे। आपको बता दें कि इससे पहले शनिवार को दिल्ली की पूर्व सीएम शीला दीक्षित ( Sheila Dixit ) का निधन हो गया।

Former BJP Delhi President Mange Ram Garg

शीला ( Sheila Dixit ) लंबे समय से बीमार चल रही थी, उनको दिल्ली के एस्कॉट हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था, जहां दिल का दौरा पड़ने से उनका निधन हो गया।

कारगिल विजय दौड़: शहीदों की याद में सैनिकों के साथ दौड़ी दिल्ली, विजय चौक से इंडिया गेट तक विक्ट्री रन

दिल्ली सरकार ने पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के सम्मान में दो दिन के राजकीय शोक की घोषणा की। शनिवार की शाम उनका निधन हो गया। राजकीय शोक की घोषणा उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने की।

 

news

वरिष्ठ कांग्रेस नेता शीला दीक्षित वर्ष 1998 से 2013 तक लगातार तीन बार मुख्यमंत्री रहीं। दिल का दौरा पड़ने से 81 वर्ष की उम्र में उनका निधन हो गया। उनके आकस्मिक निधन के बाद दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमिटी के कार्यालय पर राष्ट्रीय ध्वज आधा झुका दिया गया।