स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

कांग्रेस प्रवक्‍ता रणदीप सुरजेवाला ने आरएसएस-भाजपा को बताया दलित विरोधी, कहा- सामने आया असली एजेंडा

Dhirendra Kumar Mishra

Publish: Aug 19, 2019 13:53 PM | Updated: Aug 19, 2019 16:32 PM

Political

  • Congress spokesperson Randeep Singh Surjewala का बड़ा बयान
  • आरएसएस और भाजपा पर लगाया दलित-पिछड़ा विरोधी होने का आरोप
  • सामने आया भाजपा असली भाजपाई एजेंडा

नई दिल्‍ली। कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ( Randeep Singh Surjewala ) ने आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ( RSS Chief Mohan Bhagwat ) के बयान पर हमला बोला है। उन्‍होंने कहा कि संध प्रमुख का बयान गरीबों के आरक्षण को खत्म करने के षड्यंत्र है। भागवत के इस बयान से आरएसएस-भाजपा की संविधान बदलने की नीति बेनकाब हो गई है।

आरएसएस-भाजपा का असली एजेंडा

कांग्रेस प्रवक्‍ता सुरजेवाला ( Randeep Singh Surjewala ) ने कहा कि यह गरीबों के अधिकारों पर हमला है। संविधान सम्मत अधिकारों को कुचलना, दलितों-पिछड़ों के अधिकार छिनना यही असली भाजपाई एजेंडा है।

राजनाथ सिंह ने इमरान खान को दी चेतावनी, कहा- बदल सकती है 'नो फर्स्‍ट यूज' परमाणु नीति

 

bhagwat

मोहन भागवत ने फोड़ा आरक्षण बम

बता दें कि महाराष्‍ट्र, झारखंड और हरियाणा में विधानसभा चुनाव से ठीक पहले राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ प्रमुख मोहन भागवत ने एक बार फिर आरक्षण को लेकर बड़ा बयान दिया है। उनके इस बयान को कांग्रेस ने गरीब और दलित विरोधी करार दिया है।

इससे पहले 2015 में बिहार विधानसभा चुनाव के दौरान भागवत ने आरक्षण के मुद्दे को उठाया था। विपक्ष द्वारा इस मुद्दे को उठाने की वजह से भाजपा को हार का सामना करना पड़ा था।

आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने महराष्‍ट्र, हरियाणा और झारखंड में चुनाव से पहले फोड़ा आरक्षण

आरएसएस प्रमुख भागवत ( RSS Chief Mohan Bhagwat ) ने एक कार्यक्रम में कहा था कि जो आरक्षण के पक्ष में हैं और जो इसके खिलाफ हैं उन्हें इस मुद्दे पर विचार करना चाहिए। संघ प्रमुख ने कहा कि उन्होंने आरक्षण ( Reservation ) पर पहले भी बात की थी लेकिन तब इस पर काफी बवाल मचा था। सियासी बवाल की वजह से आरक्षण का मुद्दा मूल उद्देश्‍य से भटक गया था।

भागवत ने कहा कि जो आरक्षण के पक्ष में हैं, उन्हें इसका विरोध करने वालों के हितों को ध्यान में रखते हुए बोलना चाहिए। वहीं जो इसके खिलाफ हैं उन्हें भी वैसा ही करना चाहिए।

सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की तरुण तेजपाल की याचिका, निचली अदालत में चलेगा यौन उत्पीड़न