स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

कर्नाटक में कल कैबिनेट विस्तार, बीएस येदियुरप्पा को अमित शाह की अंतिम सूची का इंतजार

Amit Kumar Bajpai

Publish: Aug 19, 2019 13:25 PM | Updated: Aug 19, 2019 16:31 PM

Political

  • Karnataka CM BS Yediyurappa ने की कैबिनेट विस्तार की घोषणा
  • आज कुछ देर में अमित शाह से अंतिम सूची मिलने का किया दावा
  • मंत्रियों के ना होने पर लगातार सीएम को घेर रहा है विपक्ष

बेंगलूरु। कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा कल यानी मंगलवार को कैबिनेट का विस्तार करेंगे। येदियुरप्पा ने सोमवार को कहा कि मंत्रिमंडल विस्तार के लिए अंतिम सूची भारतीय जनता पार्टी अध्यक्ष अमित शाह सौंपेंगे। सोमवार को उन्हें यह सूची मिल जाएगी।

येदियुरप्पा ने कहा, "दो-तीन घंटे के भीतर मुझे अमित भाई (भाजपा के अध्यक्ष अमित शाह) से फाइनल लिस्ट मिल जाएगी। इसलिए मंत्रिमंडल विस्तार कल किया जाएगा।"

कर्नाटक में काफी उठापटक के बाद बीते 26 जुलाई को बीएस येदियुरप्पा ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी। हालांकि अभी उन्हें अपने मंत्रिमंडल का गठन करना है। येद्दि के इसस कदम की विपक्ष ने जमकर आलोचना की थी। विपक्ष ने आरोप लगाया था कि बाढ़ से प्रभावित कर्नाटक में मंत्रियों की कमी के चलते जिस स्तर के राहत कार्य होने चाहिए थे, वे प्रभावित हुए।

कर्नाटक का सियासी संकट खत्म, 'बाहुबली' येदियुरप्पा ने साबित किया बहुमत

 

कर्नाटक कांग्रेस ने अपने ट्वीट में लिखा, "क्या 'न्यूनतम सरकार' से भाजपा का यही आशय है? बिना मंत्रियों का मंत्रिमंडल? क्या बीएस येदियुरप्पा जागेंगे और देशभर में हंसी का पात्र बने राज्य की किरकिरी होने से बचाएंगे। कर्नाटक को एक सरकार की जरूरत है। अगर बीएस येदियुरप्पा सरकार नहीं बना सकते, उन्हें अपने पद से हट जाना चाहिए।"

इससे पहले बीएस येदियुरप्पा ने नई दिल्ली में गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की थी और कर्नाटक में बाढ़ व अन्य मुद्दों पर चर्चा की थी। इसके अलावा येद्दि ने बाढ़ प्रभावित कर्नाटक में हुई भारी बारिश के बाद राज्य का हवाई दौरा भी किया था।

फिर दिखा बीएस येदियुरप्पा का ज्योतिष प्रेम, बार-बार नाम बदलने के पीछे रहीं ये 10 वजह

गौरतलब है कि पिछले वर्ष सरकार के गठन के बाद से कर्नाटक में सियासी उठापटक का दौर जारी रहा था। लेकिन इस वर्ष सियासी संकट काफी चरम पर पहुंच गया था और मामला सुप्रीम कोर्ट तक पहुंच गया।

कर्नाटक विधानसभा के स्पीकर ने 17 विधायकों को अयोग्य भी घोषित कर दिया था। इसके बाद कर्नाटक के मुख्यमंत्री और जेडीएस नेता एचडी कुमारस्वामी को इस्तीफा भी देना पड़ा था। फिर येदियुरप्पा ने सरकार बनाने का दावा पेश किया और सीएम बने।