स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

स्वर्ग जैसा है मां सुरकंडा का दरबार, इसे नहीं देखा तो जीवन में कुछ नहीं देखा

Devendra Kashyap

Publish: Oct 06, 2019 10:49 AM | Updated: Oct 06, 2019 10:52 AM

Pilgrimage Trips

यहां गिरा था माता सती का सिर, मां के दर्शन से ही दूर हो जाता है हर दुःख

नवरात्रि में नवदुर्गा के 9 स्वरूपों की पूजा होती है। इस मौके पर हम आपको एक ऐसे मंदिर के बारे में बताने जा रहे हैं, जो 51 शक्तिपीठों में एक है। इस मंदिर को सुरकंडा देवी मंदिर के नाम से जाना जाता है।

surkanda123.jpg

2,757 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है सुरकंडा देवी का दरबार

सुरकंडा देवी का दरबार हिन्दूओं का प्राचीन मंदिर है। यह मंदिर देवी दुर्गा को समर्पित है, जो नवदुर्गा के रूपों में एक हैं। सुरकंडा देवी मंदिर में देवी काली की प्रतिमा स्थापित है। यह मंदिर उत्तराखंड के टिहरी जिले के यूलिसाल गांव में है। यह मंदिर लगभग 2,757 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है।

surkanda12.jpg

यहां गिरा था देवी सती का सिर

पौराणिक कथाओं के अनुसार, जब भगवान शंकर देवी सती के मृत शरीर को लेकर पूरे ब्रह्मांड के चक्कर लगा रहे थे, उसी दौरान भगवान विष्णु ने अपने सुदर्शन चक्र से सती के शरीर को 51 भागों में विभाजित कर दिया था, जिसमें सती का सिर इस स्थान पर गिरा था, इसलिए इसे मंदिर को श्री सुरकंडा देवी मंदिर भी कहा जाता है।

surkanda.jpg


गौरतलब है कि देवी सती के शरीर का भाग जिस-जिस स्थान पर गिरे थे, उन स्थानों को शक्तिपीठ कहा जाता है। सुरकंडा देवी मंदिर में गंगा दशहरा का त्योहार मनाया जाता है, जो हर साल मई और जून के बीच आता है। नवरात्री का त्योहार भी यहां विशेष रूप से मनाया जाता है।

surkanda1.jpg

घने जंगलों से घिरा है सुरकुंडा देवी का मंदिर

सुरकंडा देवी का दरबार घने जंगलों से घिरा हुआ है। यहां से उत्तर दिशा में हिमालय का सुन्दर दृश्य दिखाई देता है। दक्षिण दिशा में देहरादून और ऋ़षिकेश शहरों का सुन्दर नजारा देखा जा सकता है। यह मंदिर साल में ज्यादातर समय कोहरे से ढका रहता है। बताया जाता है कि अभी जो यहां मंदिर है, उसका पुनः निर्माण किया गया है। जबकि वास्तविक मंदिर की स्थापना का समय किसी को पता नहीं है। माना जाता है कि यह बहुत ही प्राचीन मंदिर है।