स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

यहां मां अपने भक्तों को एक झरोखे से देती हैं दर्शन, कहा जाता है राजसत्ता की देवी

Devendra Kashyap

Publish: Sep 28, 2019 10:48 AM | Updated: Sep 28, 2019 10:48 AM

Pilgrimage Trips

चर्तुभुज रूप में विराजमान मां पीतांबरा के एक हाथ में गदा, दूसरे में पाश, तीसरे में वज्र और चौथे हाथ में राक्षस की जिह्वा थाम रखी हैं।

आज हम आपको एक ऐसे देवी मां के बारे में बताने जा रहे हैं, जो अपनी भक्तों को एक झरोखे से दर्शन देती हैं। मान्यता है कि यहां जो भी आया, कभी खाली हाथ नहीं लौटा। कहा जाता है कि मां किसी का पुकार अनसुनी नहीं करती हैं। इस देवी मंदिर को पीतांबरा सिद्धपीठ के नाम से जाना जाता है।

ये भी पढ़ें- यहां तीन किलोमीटर के दायरे में विराजमान हैं तीन प्रमुख देवियां, नवरात्रि में जरूर जाएं

मां पीतांबरा का ये सिद्धपीठ मध्यप्रदेश के दतिया में स्थित है। इसकी स्थापाना 1935 में स्वामी जी ने किया था। चर्तुभुज रूप में विराजमान मां पीतांबरा के एक हाथ में गदा, दूसरे में पाश, तीसरे में वज्र और चौथे हाथ में उन्होंने राक्षस की जिह्वा थाम रखी हैं।

ये भी पढ़ें- अर्धरात्रि के बाद जो भी यहां करता है मां के दर्शन, उसे साक्षात भगवती का प्राप्त होता है आशीर्वाद

माना जाता है कि मां बंग्लामुखी ही पीतांबरा देवी हैं इसलिए उन्हें पीली वस्तुएं चढ़ाई जाती हैं। यहां आने वाले श्रद्धालु मां के दर्शन एक छोटी सी खिड़की से करते हैं। मान्यता है कि अगर मां पीतांबरा की विधि-विधान से अनुष्ठान कर लिया जाए, तो मां जल्दी ही सभी मनोकामनाएं पूरी कर देती हैं। यही कारण है कि राजसत्ता की कामना रखने वाले भक्त यहां आकर गुप्त अर्चना करते हैं। इसलिए इन्हें राजसत्ता की देवी कहा जाता है।

ये भी पढ़ें- दुनिया का इकलौता माता शारदा का मंदिर, जहां रात में कोई नहीं रूकता

यहां आने वाले भक्तों को मां पीतांबरा के अलावा खंडेश्वर महादेव और धूमावती के दर्शन करते हैं। खंडेश्वर महादेव की तांत्रिक रूप में यहां पूजा होती है जबकि मां धूमावती 10 महाविद्याओं में से एक हैं। मां धूमावती के दर्शन सिर्फ आरती के समय ही किया जा सकता है, क्योंकि अन्य समय में मंदिर के कपाट बंद रहते हैं।