स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

मंदिरों का शहर महाबलीपुरम को सुनामी भी तबाह नहीं कर पाई, 'बटर बॉल' 1300 साल से अपनी जगह से हिला तक नहीं

Devendra Kashyap

Publish: Oct 11, 2019 12:11 PM | Updated: Oct 11, 2019 12:11 PM

Pilgrimage Trips

मंदिरों का शहर महाबलीपुरम को सुनामी भी तबाह नहीं कर पाई, 'बटर बॉल' 1300 साल से अपनी जगह से हिला तक नहीं

मंदिरों का शहर महाबलीपुरम तमिलनाडु की राजधानी चेन्नई से 55 किलोमीटर दूर बंगाल की खाड़ी के तट पर स्थित है। पहले इस शहर को मामल्लापुरम के नाम से जाना जाता था। तमिलनाडु का यह प्राचीन शहर अपने भव्य मंदिरों, स्थापत्य और सागर-तटों के लिए बहुत प्रसिद्ध है।

temple city Mahabalipuram

इतिहासकारों की मानें तो 7वीं शताब्दी में यह शहर पल्लव राजाओं की राजधानी थी। यह शहर द्रविड वास्तुकला की दृष्टि से अग्रणी स्थान रखता है। महाबलीपुरम दक्षिण भारत के स्वर्णिम इतिहास का जीताजागता प्रमाण भी। इसे पल्लव राजवंश के राजाओं ने 7वीं सदी में बनवाया था।

temple city Mahabalipuram

1300 सालों से यह अपनी जगह से हिला तक नहीं

पल्लव राजाओं द्वारा स्थापित महाबलीपुरम और यहां के मंदिर प्राचीन स्थापत्य कला और वास्तुशिल्प के बेजोड़ नमूने हैं। करीब 1300 साल बीत जाने के बावजूद ग्रेनाइट पत्थरों से बने इन मंदिरों को जरा भी नुकसान नहीं पहुंचा है। यही नहीं, पल्लव राजाओं ने भगवान श्रीकृष्ण की मक्खन के गोले के प्रतीक के रूप में 'बटर बॉल' को निर्मित किया था। एक पत्थर की चट्टान पर विशालकाय गोल पत्थर टिका हुआ है। यह गोल पत्थर 1300 सालों से यह अपनी जगह से हिला तक नहीं।

temple city Mahabalipuram

शोर मंदिर

महाबलिपुरम के शोर मन्दिर को दक्षिण भारत के सबसे प्राचीन मंदिरों में एक माना जाता है। यह मंदिर द्रविड वास्तुकला का बेहतरीन नमूना है। यहां तीन मंदिर हैं। बीच में भगवान विष्णु का मंदिर है जिसके दोनों तरफ से शिव मंदिर हैं। यह मंदिर विश्व विरासत में शामिल हो चुका है। 2001 में जब सुनामी आई थी और तटीय क्षेत्र में सबकुछ तबाह कर गई थी, तब भी इस मंदिर को कुछ नहीं हुआ।

temple city Mahabalipuram

पांडव रथ

महाबलिपुरम में पांडवों के नाम पर रथों का निर्माण कराया गया है, जिसे पांडव रथ कहा जाता है। पांच में से चार रथों को एकल चट्टान पर उकेरा गया है। जिनमें से चार पांडवों के नाम पर हैं लेकिन पांचवें रथ को द्रौपदी रथ के नाम से जाना जाता है।

temple city Mahabalipuram

गुफाएं

वराह गुफा विष्णु के वराह और वामन अवतार के लिए प्रसिद्ध है। साथ की पल्लव के चार मननशील द्वारपालों के पैनल लिए भी वराह गुफा चर्चित है। यहां की महिषासुर मर्दिनी गुफा भी नक्काशियों के लिए खासी लोकप्रिय है।

temple city Mahabalipuram

जानवरों की मूर्तियां

इतिहासकारों की मानें तो शोर मंदिर का निर्माण पल्लव वंश के राजाओं ने किया था। लेकिन बाद में चोल वंश के राजाओं ने मंदिरों में कई प्रकार की गाय, सांड, दुर्गा और सिंह जैसे कई अन्य मूर्तियां बनाई गई, जो बहुत ही अद्भुत हैं और देखते ही बनता है।