स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

'मोगुल' हमारे परिवार का सबसे इमोशनल प्रोजेक्ट है - तुलसी कुमार

Anurag Trivedi

Publish: Nov 05, 2019 14:04 PM | Updated: Nov 05, 2019 14:04 PM

Patrika plus

- एक इंस्टीयूट की लॉन्चिंग के मौके पर जयपुर आई सिंगर तुलसी ने पत्रिका प्लस से शेयर किया अनुभव
- उन्होंने कहा कि पापा ने ही मुझे गाते हुए सुनकर सिंगर बनने की प्रेरणा दी थी

जयपुर. 'बॉलीवुड में अब तक का सफर बहुत लम्बा और अच्छा रहा है। १३ साल से इंडस्ट्री का हिस्सा हूं और यहां से बहुत कुछ पाया और बहुत कुछ सीखा है। मैंने बॉलीवुड के नामचीन म्यूजिक इंडस्ट्री के साथ काम किया है और यहीं से मुझे एक बेहतर एक्सपीरियंस मिला है। मैं आज भी जब गाना गाती हूं या जब भी परफॉर्म करती हूं तो अपने आप को एक स्टूडेंट मानकर ही चलती हूं।Ó यह कहना है, बॉलीवुड सिंगर तुलसी कुमार का। मालवीय नगर स्थित एक मॉल में एक इंस्टीट्यूट की लॉन्चिंग पर शहर आई तुलसी ने पत्रिका प्लस से बात करते हुए कहा कि मेरे पिता का सपना था कि वे टैलेंट को मंच प्रदान करें, उन्होंने सोनू निगम और अनुराधा पौडवाल जैसे सिंगर्स को पहचान दिलाई। वे चाहते थे कि नए कलाकारों को रेस्पेक्ट मिले और एक अच्छा काम मिल, ताकि वे अपना भविष्य बना सके।
एेसे में अब हमारा दायित्व बनता है कि नए टैलेंट को मंच देकर उन्हें प्रोत्साहित किया जाना चाहिए। हमने दिल्ली एनसीआर और गुवाहाटी के बाद जयपुर मंे एकेडमी शुरू की है। यह प्रोजेक्ट मेरे दिल के करीब है, क्योंकि यह मेरे पापा का सपना था। सिंगिंग के अलावा एक्टिंग, मॉडलिंग, फोटोग्राफी, डायरेक्शन, म्यूजिक प्रोडक्शन जैसे विषयों पर काम किया जाएगा, ताकि जो भी मुम्बई आए, वे पूरी तैयारी के साथ निकले।

पापा की खोज हूं मैं
तुलसी ने कहा कि पापा मुझे एक सक्सेसफुल लड़की और सक्सेसफुल सिंगर बनते हुए देखना चाहते थे, उन्होंने ही मेरी सिंगिंग प्रतिभा को खोजा था। जब पहली बार उन्होंने मुझे गाते हुए सुना था, तो कहा था कि इसकी मीठी आवाज है और इसे प्रशिक्षण दिलवाना जरूरी है। इसलिए उन्होंने बचपन से मेरी ट्रेनिंग शुरू करवा दी थी। म्यूजिक के प्रति मेरा पैशन और प्यार सबसे पहले पापा ने देखा था। पैरेंट्स ही अपने बच्चों को क्रिएटिव फील्ड से जोड़ सकते हैं। उन्होंने कहा कि अभी रीक्रिएशन का दौर है, 'साकी साकीÓ और 'शहर की लड़कीÓ जैसे गानों के जरिए मैंने चैलेंज लिया था और ये लोगों को पसंद भी बहुत आए। मैंने रोमांटिक गाने बहुत गाए हैं, एेसे में डांस नम्बर चैलेंज की तरह लगे। सिंगिंग में मुझे वर्सेटाइल बनने के लिए एक एक अच्छा कदम लगा।

पिता की जर्नी इंस्पायर करने वाली
उन्होंने कहा कि पिता पर बन रही बायोपिक 'मोगुल' पर काफी समय से काम चल रहा है, यह काफी लम्बा प्रोजेक्ट चला गया, अभी फ्लोर पर नहीं गया है, लेकिन यह प्रोजेक्ट कुमार फैमिली के लिए बहुत इमोशनल मोमेंट है। पापा की जर्नी बहुत लोगों को इंस्पायर करती है, आज भी हमें लोग मिलते हैं तो कहते हैं कि आपके पिता ने हमारी उस वक्त मदद की थी, जब परिवार वालों ने साथ छोड़ दिया था। पापा पर फिल्म बन रही है, तो मैं उसमें पूरी तरह से जुड़ी हुई हूं। इसमें मेरा गाना जरूर होगा। अभी मरजावां में एक गाना आया है और अभी एक सिंगल की तैयारी कर रही हूं।

[MORE_ADVERTISE1]