स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

मलेशिया में चमक बिखेर रहा है जयपुर का आर्ट

Anurag Trivedi

Publish: Jul 17, 2019 20:40 PM | Updated: Jul 17, 2019 20:40 PM

Patrika plus

पांच देशों के कलाकारों की गु्रप एग्जीबिशन 'फ्यूजन 5' में जयपुर के कलाकार ले रहे हैं हिस्सा

जयपुर. मलेशिया के पिनांग शहर में जयपुर के आर्टिस्ट्स की बनाई कलाकृतियां आर्ट लवर्स को अट्रेक्ट करने में कामयाब हो रही है। पिनांग के सासारन इंटरनेशनल आर्ट सेंटर में शुरू हुई 'फ्यूजन 5' एग्जीबिशन में जयपुर के वरिष्ठ चित्रकार डॉ. विद्यासागर उपाध्याय, विनय शर्मा और मनीष शर्मा की पेंटिंग्स डिस्प्ले की गई है। इस एग्जीबिशन में हिस्सा लेने के लिए विनय और मनीष शर्मा मलेशिया भी गए हैं और वहां लाइव आर्ट भी तैयार कर रहे हैं। इस एग्जीबिशन में इंडिया, सिंगापुर, श्रीलंका, विएतनाम और मलेशिया के आर्टिस्ट अपनी आर्ट के साथ शिरकत कर रहे हैं। शहर के तीनों कलाकार इस एग्जीबिशन में इंडिया को रिप्रजेंट कर रहे हैं। विद्यासागर उपाध्याय ने बताया कि मैं कलाकृति में अपने पूर्व अनुभवों के साथ नित नवीन रूप देने में विश्वास करता हूं। इसमें एब्स्ट्रेक्ट पेंटिंग डिस्प्ले की है, इसमें नेचर से लेकर मानवीय प्रकृति को प्रस्तुत किया है।
'माई लॉस्ट मैमोरी' सीरीज

मनीष शर्मा ने बताया कि 'माई लॉस्ट मैमोरी' सीरीज की ही एक पेंटिंग को यहां डिस्प्ले किया है। यह पेंटिंग इस ग्लोबलाइजेशन, बाजारीकरण के नाम पर अनमोल शिल्प 'वास्तु कला' को नष्ट किए जाने को लेकर है। हम हमारी संस्कृति और स्थापत्य कला को खत्म करने कगार पर है, लोग इस विषय पर सोचे इसलिए मैंने कलाकृति में इन सब्जेक्ट्स को उकेरा है। इस एग्जीबिशन में विभिन्न देशों के कलाकार आ रहे हैं और उनसे आर्ट पर डिस्कशन होना हमारे लिए बेहतर साबित होगा।

219 वर्ष पहले के पंचांग पर कैलीग्राफी
एग्जीबिशन में विनय शर्मा ने 219 वर्ष पहले के पंचांग का मूल कैलीग्राफी में प्रयोग करते राजस्थानी चटकीले और उत्सवधर्मी रंगों के तानेबाने में अतीत की वास्तु और सांस्कृतिक धरोहर की स्मृतियों को केनवास पर जीवंत किया है। उनकी कलाकृति में जयपुर के स्थापत्य सौन्दर्य की चौकडिय़ों का भी अपनापा है। उन्होंने बताया कि पिनांग में मेरी कला ऐसे समय में प्रदर्शित हो रही है, जब यूनेस्को ने जयपुर के परकोटे को भी विश्व धरोहर में शुमार किया है। पिनांग शहर भी विश्व धरोहर में पहले से शामिल है, ऐसे में दोनों जगहों की खूबसूरती को भी मैं कैनवास पर उतारने का प्रयास कर रहा हूं।