स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

नीतीश को लेकर पासवान का बड़ा बयान, अब छोड़ो कुर्सी

Brijesh Singh

Publish: Sep 09, 2019 19:09 PM | Updated: Sep 09, 2019 19:09 PM

Patna

Bihar Cm Nitish Kumar: भाजपा नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री संजय पासवान ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ( Bihar Cm Nitish Kumar ) को नसीहत दी कि उन्हें अब बिहार के मुख्यमंत्री का पद छोड़ देना चाहिए।

( पटना, प्रियरंजन भारती)। बिहार में सत्ताधारी गठबंधन में सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है। इसका आभास समय-समय पर होता रहा है, लेकिन पिछले कुछ दिनों से आ रहे बयानों से गठबंधन की तल्खी जगजाहिर हो गई है। हालिया मामला भाजपा नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री संजय पासवान ( Sanjay Paswan ) के बयान से जुड़ा है, जिसमें उन्होंने सीधे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ( CM Nitish Kumar ) को ही अपने हमले का निशाना बनाया और यह नसीहत दे डाली कि नीतीश को अब बिहार के मुख्यमंत्री का पद छोड़ देना चाहिए।

क्या कहा पासवान ने

भाजपा नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री डॉ संजय पासवान ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ( Nitish Kumar ) के नेतृत्व को लेकर दिए बयान से जदयू में बौखलाहट बढ़ गई है। पासवान ने कहा कि नीतीश कुमार को अब सीएम की सीट खाली कर देनी चाहिए। भाजपा नेता डॉ संजय पासवान ने के मुताबिक नीतीश कुमार को मुख्यमंत्री पद पर रहते हुए बहुत समय हो गया। उनका कहना है कि अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ( Pm Narendra Modi ) के चेहरे और नाम पर वोट मिलता है, नीतीश कुमार के चेहरे पर नहीं। इसलिए नीतीश कुमार को मुख्यमंत्री की कुर्सी अब भाजपा के लिए खाली कर देनी चाहिए।

जदयू की भौहें तनीं
पासवान के इस बयान पर जदयू की भौहें तन गई हैं। जदयू नेता निखिल मंडल ने कहा कि सीएम का चेहरा तो नीतीश कुमार ही रहेंगे। किसी के कह देने से हम नेता नहीं बदल देंगे। चाहे कोई कुछ भी कहे। काबिलेगौर है कि बिहार में एनडीए की सरकार में जदयू, भाजपा और लोजपा शामिल है। जदयू ( JDU ) नेतृत्व भाजपा पर अपना दबदबा बनाए रखना चाहता है।

संजय को संजय का जवाब

संजय पासवान के बयान जदयू नेता संजय सिंह ने कहा कि संजय पासवान जी, आपका ज्ञान सुना लेकिन आश्चर्य इस बात का हुआ कि 2015 में आपका यह ज्ञान कहां था? आपने बिल्कुल सही कहा है कि बिहार में नरेंद्र मोदी मॉडल चलेगा। बेशक चलेगा लेकिन एक बार यह तो विचार कर लीजिए कि 2015 में क्या हुआ था? संजय पासवान जी, कोई कोर कसर छोड़ी गई थी क्या 2015 में, लेकिन नतीजा क्या हुआ? बिहार की जनता ने अपने लोकप्रिय नेता नीतीश कुमार जी के नेतृत्व में आस्था जताई और हर उपक्रम के बावूजद सामने कोई टिक न सका। तब आप कहाँ थे? गौरतलब है कि समय-समय पर जदयू की ओर से ऐसे बयान भी आते रहे हैं, जो भाजपा को असहज करते रहे हैं। तीन तलाक ( Triple Talaq ) का मसला हो या अनुच्छेद 370 ( Article 370 ) को बेअसर करने का, दोनों ही मामलों पर जदयू का रूख भाजपा से उलट नजर आया है।

बिहार की ताजा खबरों के लिए यहां क्लिक करें...