स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

पन्ना के महाराजगंज में उल्टी-दस्त का प्रकोप जारी, 50 से ज्यादा पीडि़त आए सामने

Anil Singh Kushwaha

Publish: Sep 10, 2019 22:25 PM | Updated: Sep 10, 2019 22:25 PM

Panna

पवई के साथ हरदुआ खमरिया में अस्पताल में मरीजों का उपचार

पवई. हरदुआ खमरिया. पवई जनपद के ग्राम पंचायत महाराजगंज पूरी तरह उल्टी दस्त बीमारी के चपेट में है। दूसरे दिन भी इसका व्यापक असर दिखा है। इस क्षेत्र से 50 से ज्यादा मरीज सामने आ चुके हैं। वहीं स्थिति की गंभीरता को देखते हुए स्वास्थ विभाग की टीम ने मौके पर डेरा डाल दिया है। मरीजों का उपचार पवई के अलावा खमरिया हरदुआ स्वास्थ केंद्र में भी चल रहा है। डॉक्टरों की माने, तो स्थिति नियंत्रण में है। दवा वितरण के बाद हालात सामान्य हो रहे हैं। गौरतलब है कि ग्राम पंचायत महाराजगंज के हरिजन बस्ती में दूषित पानी पीने के बाद गांव के आधा सैकड़ा से अधिक लोग बीमार पड़ गए थे।

मौके पर पहुंचा स्वास्थ महकमा, स्थिति नियंत्रण में
उल्टी दस्त से गांव के एक बच्ची की गुरुवार को मौत भी हो चुकी है। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पवई में उल्टी-दस्त से पीडि़त गांव के 10 लोगों का इलाज चल रहा है। बीएमओ डॉ. एमएल चौधरी ने बताया कि दूसरे दिन ३ लोगों को पवई के अस्पताल में भर्ती कराया गया है। अभी जिन लोगों का पवई में इलाज चल रहा है उनमें रंजीत अहिरवार, रूपा अहिरवार, लकी अहिरवार, स्वामी अहिरवार, संदीप अहिरवार, मिथिला अहिरवार, द्रोपदी बंसकार, बुधुवा अहिरवार एवं संगीता अहिरवार के नाम शामिल हैं। मृतिका बच्ची को पिता ने बताया, अस्पताल में भर्ती होने के बाद से तबियत में सुधार हो रहा है । डॉ. ओम हरि शर्मा ने बताया कि महाराजगंज से उल्टी दस्त से पीडि़त मरीज आये थे जिनका उपचार जारी है। तबियत मे सुधार भी हो रहा है ।

गंाव में डटी स्वास्थ्य विभाग की टीम
दूसरे दिन भी स्वास्थ्य विभाग की टीम ने गांव में डेरा डाले रखा। दूसरे दिन तक स्वास्थ्य विभाग की टीम द्वारा गांव में उल्टी-दस्त, शर्दी, खांसी, बुखार से पीडि़त 30 लोगों को इलाज दिया जा रहा था। इलाज के दौरान तीन लोगों को पवईके लिए रेफर कर दिया। जबकि पुरुषोत्तम अहिरवार का इलाज उप स्वास्थ्य केंद्र हरदुआ खमरिया में चल रहा है। हरदुआ गांव की एक महिला के उल्टी दस्त से बीमार होने पर हरदुआ उप स्वास्थ्य केंद्र में भर्तीहुई थी, जिसे गंभीर हालत में जिला अस्पताल के लिए रेफर कर दिया गया है।

फर्स में लिटाकर कर रहे इलाज
पवई सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र सिर्फ 30 बेड का है। 10 बेड का एनआरसी है और 10 बेड डिलीवरी वाली महिलाओं के लिए आरक्षित हैं। इससे सामान्य मरीजों के लिए सिर्फ 10 बेड ही बचते हैं। महाराजगंज से उल्टी दस्त से पीडि़त 10 लोग के दो दिन में यहां पहुंचे तो उनके लिए बेड ही कम पड़ गए। इससे बीमार लोगों को अस्पताल प्रबंधन द्वारा वार्ड के फर्स में लिटाकर इलाज दिया गया। बताया गया कि इलाज मिलने के बाद से कोई मौत नहीं हुई है। लोगों की सेहत में लगातार सुधार हो रहा है।