स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

सामूहिक नकल का मामला: जांच दल को अप-टू-डेट मिली छत्रसाल महाविद्यालय में चल रही परीक्षा

Anil Singh Kushwaha

Publish: Sep 08, 2019 06:10 AM | Updated: Sep 08, 2019 02:16 AM

Panna

ग्रामोदय विवि के डिप्टी रजिस्ट्रर ने टीम के साथ परीक्षा केंद्र का किया दौरा

देवेन्द्रनगर/पन्ना. महात्मा गांधी ग्रामोदय यूनिवर्सिटी के दूरवर्ती शिक्षा जिले के पांच सेंटरों में चल रही हैं। परीक्षा केंद्रों का निरीक्षण करने डिप्टी रजिस्ट्रार के दौरे की जानकारी पूर्व से ही होने के कारण नकल के लिए चर्चित परीक्षा केंद्रों में भी व्यवस्थाए अप टू डेट पाई गईं। बताया गया कि ग्रामोदय यूनिवर्सिटी के डिप्टी रजिस्ट्रार डॉ. कमलेश थापक टीम के अन्य सदस्यों के साथ शुक्रवार को शाम की पाली में चलने वाली परीक्षा का छत्रसाल शिक्षा महाविद्यालय देवेंद्रनगर में निरीक्षण किया। इस दौरान यहां सब कुछपहले से ही व्यवस्थितकर लिया गया था। इससे उन्हें परीक्षा व्यवस्थित रूप से संचालित होती मिली।

सामूहिक नकल का मामला
गौरतलब है कि परीक्षा केंद्र छत्रसाल शिक्षा महाविद्यालय में सामूहिक नकल जैसी स्थिति सामने आने के बाद 4 सितंबर को क्षेत्रीय निदेशक चित्रकूट ग्रामोदय विश्विव एवं प्राचार्य शासकीय छत्रसाल कॉलेज पन्ना द्वारा दो वरिष्ठ प्रोफेसरों डॉ. एच एन शर्मा व डॉ. पीपी मिश्रा द्वारा परीक्षा केंद्र का निरीक्षण किया गया। जहां पर उन्होंने द्वितीय पॉली में संचालित परीक्षा का निरीक्षण किया । निरीक्षण के दौरान एक भी परीक्षार्थी नकल करते हुए व अनुचित सामग्री के साथ बैठा हुआ नहीं पाया गया।

उत्तर-पुस्तिकाओं की होगी जांच
डिप्टी रजिस्ट्रार डॉ. थापक ने बताया, उत्तर पुस्तिकाओं को नियमानुसार परीक्षा होने के एक घंटे बाद डाक से भेज दिया जाना चाहिए। यदि उडऩदस्ता दल ने यह पकड़ा था कि परीक्षा केेद्र प्रबंधन की ओर से 30 अगस्त से 3 सिंतबर तक की कॉपियों एक साथ ३ सितंबर को भेजी हैं तो यह बहुत ही गलत है। इस दौरान उत्तर पुस्तिकाएं कॉलेज में नहीं थीं तो थीं कहां, इस मामले की भी जांच कराईजाएगी। चित्रकूट पहुंचकर वे पूरे मामले को दिखवाएंगे।

दो कक्षाओं में जमीन में बैठे थे परीक्षार्थी
डिप्टी रिजस्ट्रार डॉ. थापक ने बताया कि परीक्षा केंद्र के निरीक्षण के दौरान उन्हें परीक्षाएं व्यवस्थित तरीके से संचालित होते मिलीं। चार कमरों में परीक्षाएं हो रही थीं। दो कमरों के परीक्षार्थियों को कुर्सी-टेबिलें मिली हुईथीं, जबकि दो कमरों के परीक्षार्थीफर्सपर बैठकर परीक्षा दे रहे थे। उन्होंने व्यवस्थागत चीजें ही देखी हैं। इससे पहले छत्रसाल कॉलेज के प्रोफेसरों की टीम ने भी परीक्षा केंद्र का निरीक्षण किया था।

तीन सदस्यीय टीम ने किया दौरा
6 सितम्बर को दोपहर 3 बजे चित्रकूट ग्रामोदय यूनिवर्सिटी के डिप्टी रजिस्टार डॉ.कमलेश थापक व उनकी टीम ने देवेन्द्रनगर परीक्षा केंद्र का निरीक्षण किया । गया। उडऩदस्ता दल जांच टीम ने केंद्राध्यक्ष प्रीतम शर्मा व सहायक केंद्राध्यक्ष रामभुवन शर्मा भी उन्हें मिले। जबकि इससे पूर्वतक केंद्राध्यक्ष कभी किसी उडऩदस्ता दल को नहीं मिले थे। सहायक केंद्राध्यक्ष की नियुक्ति भी परीक्षा शुरूहोने के काफी दिनों बाद की गई है।