स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

ये हैं उंगलियों के जादूगर: मात्र पांच मिनट में स्केच तैयार करते हैं पलाश, कला क्षेत्र में ऐसे बनाई कॅरियर

Anil Singh Kushwaha

Publish: Sep 03, 2019 19:20 PM | Updated: Sep 03, 2019 19:20 PM

Panna

कला प्रदर्शनी में चित्रों के मुरीद हुए लोग

पन्ना. नगर के न्यू बेनीसागर कॉलोनी निवासी युवक पलाश को नगर के एक होटल में लगी कला प्रदर्शनी में लोगों ने हू-बहू स्केच बनाते देखा तो आश्चर्यचकित रह गए। पलाश महज पांच मिनट में एक व्यक्ति का स्केच तैयार कर देते हैं। प्रदर्शनी में उनसे स्केच बनवाने के लिए लोगों के बीच होड़ लग गई। उनके बनाए स्केच सहज ही लोगों को अपनी ओर आकर्षित कर रहे हैं।

आगरा से बैचलर ऑफ फाइन ऑर्ट की कर रहे पढ़ाई
पूर्व के समय में कला को आजीविका के तौर पर चयन करना काफी रिस्की माना जाता था, आज वैश्विक युग में परिस्थतियां बदल रही हैं। ऐसे हालात में पन्ना जैसे छोटे शहर से ही दर्जनों की संख्या में युवा कला और खेलों को भी अपना कॅरियर बनाने के लिए तैयार हैं। नगर के युवा कलाकार पलाश अवस्थी ऐसे ही युवाओं में से एक हैं। पलाश इन दिनों ललित कला संस्थान आगरा से बैचलर ऑफ फाइन ऑर्ट की पढ़ाई कर रहे हैं। चार वर्षीय इस पाठ्यक्रम में वे तीसरे वर्ष के छात्र हैं।

बचपन से ही कला के प्रति लगाव
पलाश बताते हैं कि उन्हें बचपन से ही कला के प्रति लगाव रहा है। कला की ओर जाने के लिए उन्हें शिक्षक विजयराम त्रिपाठी ने प्रेरित किया। स्थानीय स्तर पर उन्होंने कला की प्राथमिक शिक्षा शिक्षक मीना मिश्रा ने ली। इसके बाद उन्होंने ललित कला संस्थान आगरा में प्रवेश ले लिया। इन दिनों वे बैचलर ऑफ फाइन ऑर्ट संकाय में तृतीय वर्ष के छात्र हैं। उन्हें प्रकृति की सूबसूरती अपना ओर आकर्षित करती है। प्रकृति चित्रण, व्यक्ति चित्रण, कंपोजीशन स्टिल पेंटिंग जैसी कई कलाओं में वे काम कर रहे हैं।

स्कैच बनवाने की लगी होड़
पलाश के बनाए गए चित्र, स्केच और पेंटिंगों की प्रदर्शनी रविवार को नगर के एक होटल में लगाई गई थी। जिसने भी उनकी कला को देखा वह उनका मुरीद हो गया। वे पांच मिनट में किसी का भी हू-बहू स्कैच तैयार कर देते थे। वहां अपना स्केच बनवाने के लिए लोगों में होड़ सी लगी रही।