स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

पीएम आवास में लग रहा आदिवासी बस्ती का सरकारी स्कूल

Shashikant Mishra

Publish: Aug 25, 2019 22:09 PM | Updated: Aug 25, 2019 22:09 PM

Panna

एक छोटे से कमरे में बैठ रहे पांच कक्षाओं के आधा सैकड़ा बच्चे
बच्चों को स्कूल तक जाने के लिए सड़क भी नहीं
पूरे बारिश के सीजन में कीचड़ से होकर स्कूल जाने को मजबूर बच्चे

पवई. पवई के आदिवासी बस्ती के एक पीएम आवास में प्राइमरी स्कूल लगाया जा रहा है, जबकि इस भवन में पेयजल, शौचालय और पहुंच मार्ग जैसी मूलभूत सुविधाएं भी नहीं हैं। जानकारी के बाद भी जिम्मेदार तीन साल से स्कूल के अधूरे पड़े भवन का निर्माण कार्य पूरा कराने को लेकर गंभीर नहीं हैं। यह हालात शहरी क्षेत्र के स्कूल की है तो अंदाजा लगाया जा सकता है कि दूरस्थ ग्रामीण क्षेत्र के स्कूलों की हालत कैसी होगी।
जानकारी के अनुसार वार्ड क्रमांक ६ के आदिवासी मोहल्ला का नवीन प्राइमरी स्कूल भवन बीते तीन सालों से अधूरा पड़ा है। मोहल्ला के बच्चे पढ़ाई कर सकें, इसलिए लखन लाल आदिवासी ने अपना नव निर्मित पीएम आवास स्कूल लगाने के लिए दे दिया। अब यहां एक छोटे से कमरे में स्कूल तो लग रहा है लेकिन यहां पढऩे वाले बच्चों को मूलभूत सुविधाए भी नहीं मिल पा रही हैं।


पेयजल और शौचालय की सुविधा नहीं
वर्तमान में जहां नवीन प्राइमरी स्कूल लग रहा है वहां पर पेयजल की सुविधा नहीं है। स्कूल के बच्चों को पीने के लिए पानी घर से लाना पड़ता है य फिर उन्हें पास से नहर से पानी पीना पड़ता है। बारिश के कारण नहर का पानी दूषित हो चुका है। दूषित पानी पीने से बच्चों में बीमारी की आशंका भी बनी रहती है। स्कूल परिसर में शौचायल की सुविधा नहीं है। इससे छोटे-बच्चों को प्रसाधन के लिए घर जाना पड़ता है। शौचालय नहीं होने से स्कूल स्टॉप को भी काफी परेशानी होती है।


स्कूल तक पहुंच मार्ग नहीं
वर्तमान में जिस पीएम आवास में स्कूल संचालित हो रहा है। वहां तक पहुंच मार्ग तक नहीं बना है। आदिवासी बस्ती के बच्चों को कीचड़ से होकर स्कूल तक जाना पड़ता है। पानी गिरने पर स्कूल पहुंच मार्ग की हालत और भी अधिक खराब हो जाती है। स्कूल जाते समय कई बार छोटे बच्चे फिसलकर गिर भी रहे हैं। फिर भी इसको लेकर जिम्मेदार गंभीर नहीं हैं।


भुगतान नहीं होने से अटका निर्माण
स्कूल भवन का निर्माण तीन साल से अटका हुआ है। सीएमओ विजय कुमार रैकवार ने बताया, ठेकेदार का भुगातान नहीं होने से उसने काम रोक दिया था। सरकार से रुपए नहीं आए थे। करीब एक सप्ताह पूर्व भवन निर्माण की राशि नगर परिषद के पास आ गई है। ठेकेदार का भुगतान कराकर स्कूल भवन के अधूरे काम को शीघ्र पूरा कराने के लिए कहा जाएगा। उम्मीद है कि एक माह में भवन बनकर तैयार हो जाएगा।

 

वार्ड क्रमांक 6 में नवीन प्राथमिक शाला स्वीकृत हुई थी । जिसके लिए भवन निर्माण की जिम्मेदारी नगर परिषद की है। मेरे द्वारा वरिष्ठ अधिकारियों एवं नगर परिषद को इस संबंध में अवगत भी कराया जा चुका है। भवन निर्माण की राशि निर्माण एजेंसी को सौंपी जा चुकी है। शीघ्र ही भवन निर्माण कार्य को पूरा करने के लिए नगर परिषद को कहा जाएगा।
रामभुवन बागरी, बीआरसी पवई