स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

यूपी के कारोबारियों पर मेहरबान प्रशासन, खनन पर प्रतिबंध के बाद भी अधिकारियों के सह पर चल रहा अवैध उत्खनन का खेल

Anil Singh Kushwaha

Publish: Dec 06, 2019 23:48 PM | Updated: Dec 06, 2019 23:48 PM

Panna

जनकारी लगने के बाद भी कार्रवाई नहीं होने से उठ रहे सवाल

अजयगढ़. ग्राम पंचायत कटर्रा के रेत खदान पर अवैध रूप से कारोबार कर रहे यूपी के कारोबारियों पर जिला प्रशासन अब तक मेहरबान है। मीडिया में मामला उजागर होने के बाद भी किसी प्रकार की कार्रवाईनहीं होने से जिला प्रशासन पर तरह-तरह के सवाल उठ रहे हैं। जानकारी के अनुसार, कटर्रा की रेत खदान ग्राम पंचायत के नाम चालू की गई थी। जिसमें उत्तर प्रदेश के कारोबारियों द्वारा रेत बेची जा रही जिसमे मनमाने तरीके से वसूली जा रही हैं।

प्रतिबंध के बाद भी जोरों से चल रहा खनन का अवैध खेल
10 चके ट्रक के 14 हजार, 12 चके ट्रक से 18 हजार बिना में बिना रोक-टोक बेची जा रही जबकि इनको पिट पास ग्राम पंचायत को जारी हो रहे हैं। प्रतिबंध के बाद कारोबारी भारी भरकम मशीनों से रुंझ नदी का सीना छलनी कर रहे हैं। जहां तक कटर्रा ग्राम पंचायत क्षेत्र में रुंझ नदी में रेत नजर आती है वहां तक भारी मशीनें लगी हुई हैं। पंचायत की खदान की सीमाओं का निर्धारण किये बिना के किमी में अवैध उत्खनन बिना किसी रोक-टोक के स्थानीय प्रशासन की मर्जी से जारी है।

जांच के आदेश दे दिए गए हैं, कार्रवाई जल्द होगी
अजयगढ़ के नायाब तहसीलदार उमेश तिवारी ने बताया कि शासन द्वारा ग्राम पंचायत कटर्रा को रेत संचालन को रेत खदान दी गई है। अगर इसमें उत्तर प्रदेश के लोगो द्वारा संचालित की जा रही है तो इसकी जांच कर नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।

[MORE_ADVERTISE1]