स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

महाविद्यालय में हो रही सामूहिक नकल: परीक्षा कक्ष में छात्रों के हाथों में गाइड, नोट्स और मिला मोबाइल, केंद्राध्यक्ष नदारद

Anil Singh Kushwaha

Publish: Sep 03, 2019 18:44 PM | Updated: Sep 03, 2019 18:44 PM

Panna

छत्रसाल शिक्षा महाविद्यालय में राजस्व और उच्च शिक्षा विभाग की संयुक्त टीम ने मारा छापा

पन्ना/देवेंद्रनगर. सरकार द्वारा शिक्षा को हथियार बनाने की कवायद को किस तरह पलीता लगाया जा रहा है इसकी एक बानगी सोमवार को देवेंद्रनगर में देखने को मिली जहां छात्रसाल शिक्षा महाविद्यालय में छात्र कक्षा में पूरी सिरीज, नोट्स व मोबाइल लेकर खुलेआम नकल कर रहे थे इतना ही नहीं केंद्राध्यक्ष का दूर-दूर तक कहीं अता-पता नहीं था। इसकी पोल तक खुली जब राजस्व और उच्च शिक्षा विभाग की टीम ने संयुक्त रूप से छापेमारी की।

कुछ कमरों में वीक्षक भी नहीं मिले
बता दें महात्मा गांधी चित्रकूट ग्रामोदय विवि के दूरवती शिक्षा केंद्र की इन दिनों नगर के छत्रसाल शिक्षा महाविद्यालय में वार्षिक परीक्षाएं चल रहीं हैं। परीक्षा केंद्र में सोमवार को बीएसपी प्रथम और द्वितीय वर्ष के विज्ञान विषय की परीक्षा थी। एसडीएम के निर्देश पर शाम राजस्व और उच्च शिक्षा विभाग की टीम ने परीक्षा केंद्र में संयुक्त रूप से छापामार कार्रवाई की। कार्रवाई के दौरान परीक्षा बगैर केंद्राध्यक्ष और सहायक केंद्राध्यक्ष के चलते पाई गईं। परीक्षा कक्ष के अंदर कुछ कमरों में वीक्षक नहीं पाए गए। कुछ कमरों में जो वीक्षक थे उन्हें परीक्षा के संबंध में ज्यादा जानकारी नहीं थी। परीक्षा कक्ष के अंदर पूरी की पूरी सिरीज, सिरीज के पन्ने, नोट्स सहित बड़ी मात्रा में परीक्षा के दौरान प्रतिबंधित पाठ्य सामग्री और मोबाइल आदि पाए गए। मामले में पंचनामा तैयार कर सामूहिक नकल प्रकरण बनाने संबंधी बात कही गई है।

केंद्राध्यक्ष, सहायक केंद्राध्यक्ष नहीं किए गए थे तैनात
जानकारी के अनुसार कलेक्टर और एसडीएम को कुछ लोगों द्वारा यह शिकायत की गई थी कि परीक्ष केंद्र शिक्षा महाविद्यालय में खुलेआम नकल कराई जा रही है। मामले की जानकारी लगने के बाद एसडीएम द्वारा तहसीलदार और प्राचार्य शासकीय कॉलेज देवेंद्रनगर को दो टीमें बनाकर परीक्षा केंद्र में छापामार कार्रवाई करने के लिए निर्देशित किया गया था। एसडीएम के निर्देश पर सोमवार को तहसीलदार देवेंद्रनगर आरके शुक्ला और प्राचार्य देवेंद्रनगर कॉलेज अमिताभ पांडेय के नेतृत्य में दो टीमें बनाकर छामापार कार्रवाई की गई। दोनों टीमें शाम करीब ४ बजे एकसाथ परीक्षा केंद्रों में पहुंची और अलग-अलग परीक्षा कक्षों में पहुंचकर जांच शुरू कर दी।

खुलेआम हो रही थी नकल
एक टीम का नेतृत्व कर रहे शासकीय कॉलज देवेंद्रनगर के प्राचार्य प्रो. अमिताभ पांडेय ने बताया कि जांच करने पर पाया गया कि परीक्षा केंद्र में बगैर केंद्राध्यक्ष और सहायक केंद्राध्यक्ष के परीक्षा संचालित की जा रही थी। समझ में ही नहीं आ रहा था कि केंद्र में परीक्षा संचालित कौन करा रहा था। परीक्षा समन्वयक भी केंद्र में मौजूद नहीं थे। वे परीक्षा खत्म होने के करीब 15 मिनट पाहले केंद्र में पहुंचे जब उन्हें पता चला कि परीक्षा के दौरान छापा पड़ा है। कुछ कक्षों में वीक्षक भी मौजूद नहीं थे। जिन केंद्रों में वीक्षक मौजूद थे वे भी सिर्फ कमरों में खड़े ही थे।

केंद्र में फर्जी परीक्षार्थी पकड़े गए
बताया गया कि परीक्षा केंद्र में सामूहिक रूप से खुलेआम नकल हो रही थी। जांच के दौरान परीक्षार्थियों के पास सिरीज, कई-कई पेज के नोट्स पाए गए। सिरीज के पन्ने, उनके टुकड़े व कतरन आदि पूरे परीक्षा कक्ष में बिखरे हुए थे। जांच करने पर कुछ परीक्षार्थी फर्जी भी पाए गए हैं। ऐसे लोग परीक्षा दे रहे थे, जिन्होंने आवेदन ही नहीं किया था। वे किसी और के आवेदन पर परीक्षा दे रहे थे। इस फर्जीवाड़े में पकड़ में नहीं आए इसीलिए कई प्रवेश पत्रोंं में फोटो भी चस्पा नहीं किया जाना पाया गया। परीक्षार्थी परीक्षा कक्ष में भी मोबाइल लिए हुए थे और एक-दूसरे से सटकर बैठे हुए थे। शाम चार बजे तक परीक्षर्थियों के हस्ताक्षर रिकॉर्डपूर्ण नहीं किए गए थे, जबकि इसे परीक्षा शुरू होने के एक घंटे में पूरा किया जाना चाहिए था। मामले में सामूहिक नकल प्रकरण बनाने और परीक्षा केंद्र निरस्त करने संबंधित प्रतिवेदन तैयार कर ऊपर प्रेषित किया जाएगा।