स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

विधानसभा चुनाव के लिए हरियाणा सरकार ने कसी कमर, इस प्रभावी रणनीति के तहत बढ़ेगी आगे, चुनाव में ​काम होगा आसान

Prateek Saini

Publish: May 27, 2019 17:31 PM | Updated: May 27, 2019 17:31 PM

Panipat

सौ दिन के एजेंडे पर काम करेगी टीम मनोहर...

 

(चंडीगढ़,पानीपत): हरियाणा सरकार ने विधानसभा चुनाव की तैयारी शुरू कर दी है। चुनाव पहले रणनीति बनाकर जहां विपक्ष को मुद्दा विहीन किया जाएगा वहीं आम जनता के दरबार में जाने से पहले मुख्यमंत्री मनोहर लाल व उनकी टीम के सभी सदस्य अपना होमवर्क पूरा करेंगे। जिसकी तैयारी शुरू हो चुकी है और इसे एक जून से लागू कर दिया जाएगा।


लोकसभा चुनाव में जीत से उत्साहित भारतीय जनता पार्टी ने अभी से विधानसभा की तैयारी शुरू कर दी है। प्रदेश सरकार पूरी तैयारी के साथ जनता के दरबार में दोबारा वोट मांगने के लिए जाएगी। गत दिवस मुख्यमंत्री मनोहर लाल की अध्यक्षता में हुई विधायक दल की बैठक में इस मुद्दे पर चर्चा हुई। जिसमें कहा गया कि अब तक सरकार को जनता और विपक्षी दलों द्वारा घोषणाएं पूरी न किए जाने के मुद्दे पर घेरा जाता रहा है। जिसके चलते सरकार ने यह फैसला किया है कि इस साल अक्तूबर माह में विधानसभा चुनाव प्रस्तावित हैं। इसलिए किसी भी बड़े प्रोजैक्ट की नई घोषणा नहीं की जाएगी।


सरकार ने हरियाणा के लिए सौ दिन का एजेंडा तैयार किया है। जिसके तहत केवल उन्हीं विकास परियोजनाओं को लागू किया जाएगा जिनका सौ दिन के भीतर जनता को लाभ मिलना शुरू हो जाएगा। सभी मंत्री अपने-अपने विभागों का रिव्यू करके यह सुनिश्चित करेंगे कि पहले से की गई घोषणाओं को निर्धारित समय में पूरा किया जाएगा। पूर्व समय के दौरान की गई घोषणाओं का साप्ताहिक रिव्यू खुद मुख्यमंत्री मनोहर लाल द्वारा ही किया जाएगा। हाल ही में हुए लोकसभा चुनाव के दौरान हरियाणा में एक दर्जन स्थानों पर लोगों ने पेयजल आपूर्ति के मुद्दे पर चुनाव का बहिष्कार किया था। जिसके चलते सरकार ने यह तय किया है कि अगले तीन माह तक हरियाणा के सभी गावों, कस्बों व शहरी क्षेत्रों में पेयजल आपूर्ति को सुचारू बनाते हुए बिजली आपूर्ति, सडक़ निर्माण समेत बुनियादी ढांचा मजबूती पर जोर दिया जाएगा। आने वाले दिनों में मुख्यमंत्री तथा मंत्रियों द्वारा की जाने वाली घोषणाएं इन्हीं मुद्दों पर फोकस होंगी।


घोषणाओं के बल पर तैयार होगा रिपोर्ट कार्ड

हरियाणा सरकार ने विधानसभा चुनाव में उतरने से पहले जो रणनीति बनाई है उसके अनुसार सरकार का पूरा ध्यान अब अपना रिपोर्ट कार्ड तैयार करने पर होगा। जिसके आधार पर न केवल चुनाव लड़ा जाएगा बल्कि विपक्ष को भी घेरा जाएगा। सूत्रों की मानें तो पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा तथा ओम प्रकाश चौटाला के कार्यकाल के दौरान हुई बहुत सी घोषणाएं आज भी लंबित हैं। यही नहीं पूर्व मुख्यमंत्रियों की यह परंपरा रही है कि चुनाव से छह माह पहले भारी-भरकम घोषणाएं की जाती रही हैं लेकिन उन्हें लागू करने में कई तरह की तकनीकी दिक्कतें आती रही हैं। पूर्व सरकारों की इसी कमजोरी को मनोहर सरकार अपना हथियार बनाकर आगे बढ़ेगी। मुख्यमंत्री अपनी सरकार की घोषणाओं को शतप्रतिशत पूरा करवाकर एक रिपोर्ट कार्ड तैयार करवाएंगे और इसी रिपोर्ट कार्ड के माध्यम से यह दर्शाया जाएगा कि भाजपा ने ऐसी कोई भी घोषणा नहीं की जिसे पूरा नहीं किया जा सके।