स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

VIDEO : देसूरी नाल घाटे में बुझ चुके हैं कई घरों के चिराग, अब उठी आवाज तो दी जन आंदोलन की चेतावनी

Suresh Hemnani

Publish: Sep 20, 2019 22:01 PM | Updated: Sep 20, 2019 22:01 PM

Pali

- सात सूत्रीय मांगों को लेकर ज्ञापन
- पत्रिका ने उठाया जन मुद्दा
- अब देसूरी नाल को दुरस्त करने की मांग तेज

पाली। पाली-राजसमंद जाने वाले मार्ग पर घाटे में देसूरी नाल के रास्ते को ठीक करने की मांग तेज होती जा रही है। पत्रिका द्वारा यह मुद्दा उठाए जाने के बाद शुक्रवार को देसूरी नाल नव निर्माण संघर्ष समिति के पदाधिकारी जिला कलक्टर पाली से मिले। उन्होंने सात सूत्रीय मांगों को लेकर ज्ञापन सौंपा और 15 दिन में कार्रवाई नहीं हुई तो जन आंदोलन की चेतावनी दी।

समिति अध्यक्ष भंवर सिंह व भाजपा नेता नरेश ओझा ने बताया कि देसूरी नाल में लगातार हादसे हो रहे हैं। गत दिनों नौ जनों की जान चली गई थी। वर्ष 2007 में 89 लोगों की एक ही हादसे में जान गई थी। छोटे हादसे आए दिन होते हैं। लेकिन राजसमंद व पाली प्रशासन देसूरी नाल घाटे पर ध्यान नहीं देता है। जबकि इसी तरह के चिरवा घाटा, पिण्डवाड़ा घाटा, ब्यावर-सेंदड़ा घाटा, खण्डाला घाटा वन विभाग में होते हुए भी ठीक किया गया। लेकिन यहां देसूरी नाल के लिए वन विभाग की एनओसी नहीं मिल रही है। इससे हादसे हो रहे हैं। उन्होंने देसूरी नाल को ठीक करने की मांग की। इस दौरान अमर सिंह, निर्मल, नवल किशोर रावल, किशन पंचोली, रतन सिंह, कासम भाई, रमेश कुमार, फूआराम, महेन्द्र सिंह, धनसिंह सहित बड़ी संख्या में ग्रामीण मौजूद थे। उल्लेखनीय है कि देसूरी नाल को ठीक करने के लिए पत्रिका लगातार समाचार प्रकाशित कर रहा है।

यह मांगे रखी
- मानवतों का गुड़ा-देसूरी नाल में पुलिस चौकी स्थाई की जाए
- देसूरी नाल का शीघ्र नवनिर्माण किया जाए, डबल ट्रेक का निर्माण करवाया जाए
- पंजाब मोड़ का ढलान कम किया जाए
- घाट सेक्शन में वन विभाग व राजस्व विभाग भूमि का सीमांकन करवाया जाए
- जब तक देसूरी नाल का काम पूरा नहीं हो, तब तक झीलवाड़ा टोल नाके पर टोल वसूली बंद की जाए
- देसूरी नाल में रामदेवरा मेला सीजन में यात्रियों की सुविधा के लिए मेडिकल टीम व चिकित्सक रखा जाए
- झीलवाड़ा टोल नाके पर या मानवतों का गुड़ा पर एम्बुलेंस की स्थाई व्यवस्था की जाए