स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

VIDEO : ‘पुलिस ऑफ द रिकॉर्ड’ कॉलम में जानिए आज क्या

Suresh Hemnani

Publish: Sep 11, 2019 16:23 PM | Updated: Sep 11, 2019 16:31 PM

Pali

-पुलिस ऑफ द रिकॉर्ड स्पेशल कॉलम

Police of the Record Special Column :

गरजे भोले साहब

- चैनराज भाटी
पाली। Police of the Record Special Column : टोपी वाले महकमे के गलियारों में इन दिनों पुराने वाले उपकप्तान साहब के चर्चे है। साहब यहां थे तो भी चर्चे थे और यहां से चले गए तो भी चर्चे है। इस बार चर्चे साहब के गरजने के हैं। अक्सर चुप रहने वाले साहब का अचानक यहां से जाने का फरमान आ गया। वे भी चौंक गए, इस बीच किसी ने कान में फंूक मार दी कि इसके पीछे यहां के ही कुछेक बड़े लोगों का हाथ है। फिर क्या, साहब लाल-पीले हो गए। वे ऊपर जाकर बड़े साहब के पास गरजे और पाली की पंचायती के कई पत्ते खोले। साहब की दहाड़ का कुछ असर होगा या नहीं, यह तो आने वाला वक्त ही बताएगा।

अब ये बीस दिन कमाल के
टोपी वाले महकमे में कुर्सी का मोह जितना होता है, उतना शायद ही किसी महकमे में होता होगा। पिछले दो माह से चर्चाएं चल रही है। अब तो ऊपर से फरमान भी आ गया, जो करना है, इसी माह के अंत तक कर दो। बाद में इधर-उधर करना बंद हो जाएगा। बस अब उठापटक का दौर शुरू हो गया है। बीस दिन रहे हैं, कई कुर्सियां हिलेगी, कइयों की जाएगी। कोई बचाने की जुगत में लगा तो कोई नई के जुगाड़ में। गलियारों में सभी ठिकाणेदारों की नींद उड़ी हुई है।

ऐसा भी हो रहा...
गलियारों में इन दिनों साहब लोगों को यह सोचने को मजबूर कर रहा है कि किसकी शरण में जाए। जिनको जनता ने नकार दिया, भारी वे ही पड़ रहे हैं, राज जो उनका है। टोपी वाले महकमे में भी यह असर देखने को मिल रहा है। कैसा भी काम हो, टोपी वाले साहब लोग हो या ठिकाणेदार, वे उनकी शरण में जा रहे है, जिन्हें जनता नकार चुकी है। जो जीते वे सिर्फ जी रहे है, जो हारे उनके वारे-न्यारे है। क्या करे, गलियारों में इन दिनों ऐसा भी हो रहा है...।