स्लो इंटरनेट स्पीड होने पर आपको पत्रिका लाइट में शिफ्ट कर दिया गया है ।
नॉर्मल साइट पर जाने के लिए क्लिक करें ।

हड़ताल से स्कूल तक बंद करा देने वाले ट्रांसपोर्टर्स संयुक्त मोर्चा ने दिया ऐसा बयान, सरकार के उड़े होश

Iftekhar Ahmed

Publish: Sep 19, 2019 20:38 PM | Updated: Sep 19, 2019 20:38 PM

Noida

  • ट्रांसपोर्ट संयुक्त मोर्चा ने किया हड़ताल के सफल होने का दावा
  • शहर की सड़कों पर नहीं चले 50 हजार कॉमर्शियल वाहन
  • यात्रियों को हुई काफी परेशानी, 18 को किया गया गिरफ्तार

 

नोएडा. नए मोटर अधिनियम के विरोध में शहर के सभी आठ ट्रांसपोर्टर संगठन के 550 के करीब ट्रांसपोर्टरों के 50 हजार के करीब व्यावसायिक वाहन सड़कों पर गुरुवार को नहीं उतर पाए। ये दावा नोएडा के ट्रांसपोर्ट संयुक्त मोर्चा के अध्यक्ष चौधरी वेदपाल सिंह ने किया। उन्होंने हड़ताल को सौ फीसदी सफल बताया। उन्होंने कहा कि इस हड़ताल के बाद भी यदि उनकी मांगों पर सकारात्मक विचार नहीं हुआ तो वे और बड़े आंदोलन के लिए बाध्य होंगे। हड़ताल के मद्देनजर रोडवेज ने 25 अतिरिक्त बसों की व्यवस्था की थी, लेकिन वह नाकाफी साबित हुईं। गौरतलब है कि हड़ताल की वजह से रोडवेज और मेट्रो स्टेशनों के बाहर मुसाफिर बेहद परेशान दिखे। इस बीच पुलिस ने हड़ताल की आड़ में उपद्रव कर रहे 18 लोगों को शांतिभंग की धारा में गिरफ्तार कर जेल भेज दिया।


समर्थक संगठनों की हड़ताल का असर सुबह से दिखने लगा था। कई बड़ी मल्टीनेशनल कंपनियों और नामी स्कूलों में छुट्टी कर दी गई। वहीं, जहां कही भी ऑटो चलते दिख रहे थे । हड़ताली ऑटो वाले ऑटो में बैठे यात्रियो को जबरन उतार रहे थे। नोएडा के थाना 24 की पुलिस ने छह लोगों को शांतिभंग की धारा के तहत गिरफ्तार किया। गिरफ्तार किए गए लोगों में शिव कुमार, ओमवीर, जय सिंह, पुष्पेंद्र, सनोज और सत्यवान शामिल हैं। वहीं, सैक्टर 49 थाने की पुलिस ने 6, थाना फेज 3 की पुलिस ने 3 और थाना फेज 2 की पुलिस ने 3 लोगो को गिरफ्तार कर जेल भेजा। इस बारे में नोएडा ऑटो एसोसिएसन के अध्यक्ष ने भी अपनी सफाई दी।

यह भी पढ़ें: किडनी को रखना है स्वस्थ तो ये चार चीजों से हर हाल में करें परहेज

सेक्टर 69 स्थित नोएडा ट्रांसपोर्ट नगर में आयोजित सभा में नोएडा ट्रांसपोर्ट संयुक्त मोर्चा के अध्यक्ष चौधरी वेदपाल सिंह ने बताया कि उनकी हड़ताल सौ प्रतिशत सफल रही है। इसमें ट्रक, बस, डंफर, क्रेन, थ्री व्हीलर मालवाहक, सीएनजी थ्री व्हीलर, कैब एसोसिएशन के साथ ही स्कूल और औद्योगिक इकाइयों में लगी बसें भी शामिल रहीं। उन्होंने बताया कि हड़ताल के कारण 50 हजार से भी अधिक कामर्शियल वाहनों के पहिये थम गए। उन्होंने कहा कि सांकेतिक और शांतिपूर्ण आंदोलन रहा है। चौधरी वेदपाल सिंह ने कहा कि ट्रांसपोर्टर पर थोपे गए 10 गुना जुर्माने से भारी रोष है। नियम की आड़ में सड़कों पर ट्रांसपोर्टरों के साथ दुर्व्यवहार किया जा रहा है। दिल्ली में सीएनजी बसों की आयु 15 वर्ष है। वहीं, नोएडा में 10 वर्ष की आयु है। यह सरासर अन्याय है। इसे किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

यह भी पढ़ें: वाहन चालकों के लिए आई बड़ी खुशखबरी, अब किसी का नहीं कटेगा चालान !

उन्होंने कहा कि नोएडा में पार्किंग की बड़ी समस्या है। इसके समाधान के लिए सभी सेक्टरों में पार्किंग की मांग की गई, लेकिन अब तक कोई परिणाम नहीं निकला। आरएफआईडी टैग द्वारा भारी टोल टैक्स वसूलने के उपरांत एमसीडी द्वारा टोल टैक्स वसूला जा रहा है। इसका पुरजोर विरोध किया जाएगा। उन्होंने कहा कि यदि मांगें पूरी नहीं हुईं तो ट्रांसपोर्ट यूनियन बेमियादी हड़ताल के लिए बाध्य होंगी। गौरतलब है कि हड़ताल की वजह से डीएम के आदेश के वावजूद अधिकांश स्कूलों ने स्कूलों को बंद रखा था। दरअसल, स्कूल की बस सड़कों पर हड़ताल के कारण नहीं उतार पाई, जो स्कूल खुले भी थे, उसमें छात्रों की उपस्थिती बहुत कम रही ।